Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Unlock-2: Rohtak में माल गोदाम रोड और पुरानी सब्जी मंडी बाजार 3 दिन के लिए बंंद

एसओपी का पालन करने और कोरोना की चेन बनने से रोकने के लिए सर्तक हो गया है। अतिक्रमण, सोशल डिस्टेंसिंग और तय किए गए नियमों का पालन नहीं करने पर की कार्रवाई।

Unlock-2: Rohtak में माल गोदाम रोड और पुरानी सब्जी मंडी बाजार 3 दिन के लिए बंंद
X

हरिभूमि न्यूज: रोहतक

अब तीन दिनों तक ना तो पुरानी सब्जीमंडी (Old vegetable market) से सब्जी खरीद सकेंगे और ना ही माल गोदाम रोड से कोई सामान। दोनों बाजारों को सील(seal) कर दिया गया है। ये बाजार 5 जुलाई(July) को ही खुलेंगे। अतिक्रमण, सोशल डिस्टेंसिंग और तय किए गए नियमों का पालन नहीं करने पर यह कदम उठाया गया है। खास बात यह है कि ड्रोन कैमरे से ली गई तस्वीरों के आधार पर इन बाजरों को बंद करवाया गया है। यानी प्रशासन (Administration) एसओपी का पालन करने और कोरोना की चेन बनने से रोकने के लिए सर्तक हो गया है। अन्य भीड़-भाड़ वाले बाजारों पर भी ड्रोन से नजर रखी जा रही है। किसी ने एसओपी तोड़ा तो तुरंत बाजार तीन दिन के लिए सील कर दिया जाएगा।

बता दें कि लॉकऑन होने के बाद अचानक रोहतक में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने लगी। इसे देखते हुए प्रशासन ने बाजारों के लिए एसओपी लागू किया। अगर किसी बाजार में अतिक्रमण, बिना मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, कर्मचारियों की संख्या और भीड़ होती है और निमयों का पालन नहीं किया जाता तो वहां कार्रवाई करने की चेतावनी पहले ही दे दी गई थी। विशेषकर कम चौड़े और भीड़-भाड़ वाले बाजारों पर नजरें रखी जा रही हैं। इसके लिए प्रशासन ड्रोन कैमरों का सहारा ले रहा है। बाजारों के ऊपर ड्रोन घूमते रहते हैं। ड्रोन से जो तस्वीरें ली उन्हीं के आधार पर माल गोदाम रोड व पुरानी सब्जी मंडी बाजार तीन दिन के लिए सील कर दिया गया। 4 जुलाई तक बाजार सील रहेगा और 5 जुलाई को खुलेगा।

कोरोना के मामले बढ़ रहे

बाजारों में निर्देशों के अनुपालना न होने से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। ऐसा ही चलता रहा तो यह क्षेत्र खतरनाक क्षेत्र में शामिल हो जाएगा। बुधवार को दो बाजार तीन दिन के लिए सील किए गए हैं। भविष्य में अन्य बाजारों में भी निर्देशों की पालना नहीं की गई तो उन्हें भी 3 दिन के लिए बंद कर दिया जाएगा। -आरएस वर्मा, डीसी, रोहतक

पुलिस अधीक्षक और ड्यूटी मजिस्ट्रेट को जिम्मेदारी

आदेशों की पालना के लिए पुलिस अधीक्षक और ड्यूटी मजिस्ट्रेट व इंसीडेंट कमांडर को जिम्मेदारी सौंपी गई है। नगर निगम आयुक्त और ड्यूटी मजिस्ट्रेट और इंसीडेंट कमांडर द्वारा रिपोर्ट दी गई थी कि इन दोनों बाजारों के दुकानदार प्रशासन द्वारा जारी किए गए निर्देशों और एसओपी की पालना नहीं कर रहे, जो कोरोना के सामुदायिक संक्रमण का कारण बन सकता है।

Next Story