Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चैत्र नवरात्र : व्रत के दौरान खान- पान कैसा हो जानें

कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के इस बुरे वक्त में एक दिन की खान-पान की लापरवाही मुश्किल कर सकती है। विशेषज्ञ मानते हैं कि यदि नियमित अंतराल पर फल और दूध का सेवन किया जाए तो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहेगी।

Chaitra Navratri 2021 : नवरात्रि के 9 दिनों में कहीं आप भी तो नहीं करते ये 10 गलतियां, मातारानी हो जाएंगी नाराज
X

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

नवरात्र 13 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं, कोरोना संक्रमण भी बढ़ता जा रहा। ऐसे में उपवास के दौरान खानपान का संतुलन आपके शरीर को कमजोर होने से बचा सकता है। विशेषज्ञ मानते हैं कि यदि नियमित अंतराल पर फल और दूध का सेवन किया जाए तो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहेगी। इन नौ दिन सुबह-शाम पूजा करनी होती है, इसीलिए लोगों का बाहर घूमना-फिरना कम होता है। नवरात्र व्रत में श्रद्धालु पूरा दिन भूखे तो रहते हैं। कोरोना संक्रमण के इस बुरे वक्त में एक दिन की खान-पान की लापरवाही मुश्किल कर सकती है। इसलिए हर दिन के अनुसार अपने आहार को पहले ही तय कर लें। डॉ. एसके मलिक के अनुसार आहार ऐसा हो, जो शक्ति की पूजा करने के लिए आपको शक्ति भी दे और सुस्ती भी न आने दे।

साबूदाने का प्रयोग व्रत के आहार में आप कर सकते हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में मौजूद होती है। साथ हीं इसमें कैल्शियम और विटामिन सी भी होते हैं। उपवास के दौरान खीर, पूरी, पापड़, खिचड़ी इत्यादि बनाकर इसका सेवन कर सकते हैं।

आलू का सेवन भी नवरात्रि के व्रत में खूब किया जाता है। यह पौष्टिक तत्वों से भरा होता है। इसमें सबसे ज्यादा स्टार्च की मात्रा होती है। आलू को उबालकर सेवन करने के साथ ही इसके पापड़ और चिप्स भी उपवास के दौरान खाए जा सकते हैं।

ड्राई फ्रूट्स जैसे बादाम, किशमिश, काजू, पिस्ता, अखरोट, मखाने और बादाम गिरी इत्यादि का सेवन भी उपवास के दौरान कर सकते हैं। इनसे शरीर को बहुत ज्यादा ऊर्जा मिलती है। व्रत के दौरान कई लोग मेवे की खीर भी खाना पसंद करते हैं।

फल भी व्रत के दौरान ज्यादा से ज्यादा खाने चाहिएं। इनमें एंटीऑक्सीडेंट्स, मिनरल इत्यादि होते हैं। ताजा फलों का ही सेवन करें। फ्रूट चार्ट भी बना सकते हैं। फलों को आप कच्चा भी खा सकते हैं या जूस या रायता इत्यादि बनाकर भी ले सकते हैं।

कुट्टू के आटे से बने खाद्य पदार्थों का सेवन आप अपने उपवास के दौरान कर सकते हैं। कुट्टू या फिर सिंघाड़े के आटे की रोटी, पकौड़ी इत्यादि बनाकर खा सकते हैं। व्रत के दौरान ये सबसे आसानी से बनने वाला पौष्टिक और स्वादिष्ट आहार है।

दूध और दूध से बने हुए पदार्थ जैसे दही, लस्सी, पनीर, मट्ठे इत्यादि का सेवन भी नवरात्रि व्रत के दिनों में किया जा सकता है। इनमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है, जो आपके शरीर को कैलोरी प्रदान करने वाला होता है।

दही का सेवन काफी फायदेमंद साबित होता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व तथा बैक्टीरिया शरीर के लिए एंटीबायोटिक का काम करते हैं। दही में लेक्टोज, प्रोटीन, लोहा, कैल्शियम, फास्फोरस इत्यादि कई तरह के विटामिंस मौजूद होते हैं।

चाय पीने से उपवास के दौरान थकान भी दूर होती है और एनर्जी बरकरार रहती है। इसमें एंटिऑक्सिडेंट तत्व भी मौजूद होता है, जो शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है। चाय आपको ताजगी का अहसास दिलाती है।

Next Story