Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसान आंदोलन : हर तीसरे ट्रैक्टर पर एक ट्राली और हर 100वें ट्रैक्टर पर होगी एक मैस व हलवाई की व्यवस्था

आंदोलन स्थल पर अब तक जहां पंजाब के किसानों की तादाद अधिक नजर आती थी, वहीं सरकार द्वारा कृषि कानूनों को निरस्त करने से इनकार के बाद देशभर के किसानों में आक्रोश है और भारी संख्या में किसान ट्रैक्टर परेड में शामिल होने के लिए दिल्ली बॉर्डर का रुख कर रहे हैं।

किसान आंदोलन : हर तीसरे ट्रैक्टर पर एक ट्राली और हर 100वें ट्रैक्टर पर होगी एक मैस व हलवाई की व्यवस्था
X

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत। कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलनरत किसानों ने 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर तिरंगा परेड निकालने की सभी तैयारियां पूरी कर ली है। ट्रैक्टर तिरंगा परेड को लेकर किसानों में पूरा जोश है।

आंदोलन स्थल पर अब तक जहां पंजाब के किसानों की तादाद अधिक नजर आती थी, वहीं सरकार द्वारा कृषि कानूनों को निरस्त करने से इनकार के बाद देशभर के किसानों में आक्रोश है और भारी संख्या में किसान ट्रैक्टर परेड में शामिल होने के लिए दिल्ली बॉर्डर का रुख कर रहे हैं। रविवार को सोनीपत सहित प्रदेश के सभी जिलों से हजारों की संख्या में ट्रैक्टर और भारी संख्या में किसान कुंडली बॉर्डर की तरफ रवाना हुए।

दिन भर लगी रही ट्रैक्टरों की लाइन

सोनीपत जिले के हर गांव से रविवार को भीषण ठंड के बावजूद किसान ट्रैक्टरों में सवार होकर कुंडली बॉर्डर के लिए रवाना हुआ। किसान नेताओं की मानें तो हर घर से एक व्यक्ति को ट्रैक्टर परेड में शामिल होने का न्यौता दिया गया था।

जिसे जिलेवासियों ने बखूबी पूरा किया। हर गांव से किसान ट्रैक्टरों के साथ जत्थों के रूप में निकले। जिले से दिन भर ट्रैक्टरों पर किसानों का कुंडली बॉर्डर की तरफ जाना जारी रहा। एक अनुमान के अनुसार जिले भर से हजारों ट्रैक्टर कुंडली बॉर्डर के लिए रवाना हुए हैं और हर ट्रैक्टर पर तीन से चार किसान मौजूद रहे।

हरियाणा से बढ़ी ट्रैक्टरों की तादाद

ट्रैक्टर परेड में शामिल होने के लिए हरियाणा से पहुंचने वालों की तादाद एकाएक बढ़ गई है। इसमें सबसे खास बात यह है कि महिलाएं भी ट्रैक्टर चलाकर कुंडली बॉर्डर पर पहुंच रही है। सोनीपत के सभी गांवों के अलावा रविवार को हिसार, सिरसा, जींद, कुरुक्षेत्र, व कैथल से किसान व ग्रामीण ट्रैक्टर-ट्रालियों में खाने-पीने का सामान लेकर कुंडली बॉर्डर की तरफ रवाना हुआ। किसानों का कहना है कि जो किसान आज कुंडली बॉर्डर पर नहीं पहंुच सके हैं, वे सोमवार को कुंडली बॉर्डर के लिए रवाना होंगे।



Next Story