Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

50 लाख की फिरौती के लिए तीन लोगों का अपहरण, पढ़ें फिर क्या हुआ

इस मामले में पुलिस ने 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस आरोपितों से पूछताछ करने में जुटी है। छताछ में सामने आया है कि आरोपितों को उम्मीद थी कि फ्यूचर मेकर कंपनी के सीएमटी राधेश्याम के यहां नौकरी करते थे, इसलिए इनके पास सीएमडी का पैसा होगा। वे इनसे फिरौती की रकम वसूल कर मालामाल हो जाएंगे।

50 लाख की फिरौती के लिए तीन लोगों का अपहरण, पढ़ें फिर क्या हुआ
X

अपहरण मामले की जानकारी देते डीआईजी बलवान सिंह राणा। 

हिसार : पुलिस ने 50 लाख रुपये की फिरौती के लिए अपहरण किए गए तीन लोगों को आरोपितों के चुंगल से छुड़वा लिया। इस मामले में पुलिस ने आठ लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस आरोपितों से पूछताछ करने में जुटी है। आरोपितों को मंगलवार को अदालत में पेश करेगी। पूछताछ में सामने आया है कि आरोपितों को उम्मीद थी कि फ्यूचर मेकर कंपनी के सीएमटी राधेश्याम के यहां नौकरी करते थे, इसलिए इनके पास सीएमडी का पैसा होगा। वे इनसे फिरौती की रकम वसूल कर मालामाल हो जाएंगे।

गांव लांधडी निवासी सुरेंद्र ने पुलिस को दी शिकायत बताया कि उसके मेरा बहनोई गांव सीसवाल निवासी महेंद्र सुबह 11 बजे हिसार गया था। शाम को बहनोई के फोन से मेरे फोन पर फोन आया कि मेरे अपहरण कर लिया है और मुझे छोड़ने की एवज में 50 लाख रुपये मांग रहे हैं। इसलिए रुपयों को प्रबंध करके मुझे छुड़वा ले जाओ। मामला संज्ञान में आते ही डीआईजी बलवान सिंह राणा, डीएसपी अभिमन्यु लोहान पुलिस टीमों का गठन किया गया और अहपरणकर्ताओं की तलाश में सर्च अभियान शुरू किया गया। वाहन चोरी निरोधक पुलिस टीम ने तत्परता से कार्रवाई कर सामण पुट्ठी हाल सेक्टर 13 निवासी संदीप को सेक्टर 13 से गिरफ्तार किया और उसकी निशानदेही पर सीसवाल निवासी बलजीत, मुंढाल निवासी मोहित, लखीमपुर उत्तर प्रदेश निवासी सोनू, छोटू संदीप, सोहनलाल और सोनू को आजाद नगर में एक पुराने मकान से काबू किया और उनके कब्जे से अपहृत सीसवाल निवासी महेंद्र, मिट्ठू और विनोद को सकुशल छुड़वा लिया।

बलजीत व सिंदर ने बनाई योजना : शुरुआती जांच में सामने आया कि सीसवाल निवासी बलजीत और बिघड़ निवासी सुरेंद्र उर्फ सिंदर ने कई दिनों से सीसवाल गांव के महेंद्र का अपहरण कर फिरौती योजना बना रहे थे। आरोपितों के अनुसार महेंद्र के भाई मिट्ठू और प्रदीप फ्यूचर मेकर कंपनी के सीएमडी राधेश्याम के ड्राइवर थे इनके पास सीएमडी का पैसा हो सकता है। इसके बाद दोनों ने इस योजना में सामण पुट्ठी हाल सेक्टर 13 निवासी संदीप और मुंढाल निवासी मोहित को भी योजना में शामिल कर लिया। फिर बलजीत और सुरेंद्र उर्फ सिंदर ने योजना अनुसार महेंद्र को गाड़ी दिखाने के बहाने से विश्वास में लेकर गांव लांधडी से अपनी गाड़ी में लेकर आजाद नगर आ गए और संदीप और मोहित भी वारदात में शामिल हो गए।

आजाद नगर में एक पुराने मकान में किया कैद : योजनानुसार सेक्टर 13 निवासी संदीप ने महेंद्र के भाई मिट्ठू और विनोद को फोन कर हिसार बुलाया और तीनो को आजाद नगर में बने एक पुराने मकान में कैद कर लखीमपुर उत्तर प्रदेश निवासी सोनू, छोटू संदीप, सोहनलाल और सोनू को इनकी रखवाली के लिए छोड़ दिया ताकि ये यहां से भाग न सके। आरोपितों ने महेंद्र से ही महेंद्र के साले लांधड़ी निवासी सुरेंद्र के पास फोन करवाया कि उसका, मिट्ठू और विनोद का अपहरण कर लिया है और 50 लाख रुपये लेकर आ जाओ और हमें छुड़ा लो। पुलिस आरोपितों से पूछताछ कर रही है। आरोपितों को मंगलवार को अदालत में पेश किया जाएगा। इस मामले में अभी बिघड़ निवासी सुरेंद्र उर्फ सिंदर की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

Next Story