Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जींद स्वास्थ्य विभाग ने लिंग जांच गिरोह का किया भंडाफोड़, 50 हजार रुपये लेकर बताया जा रहा था लड़का होगा या लड़की

असंध में एक मकान में रखी पॉर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन (Portable Ultrasound Machine) से लिंग जांचा जा रहा था। स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डा. प्रभूदयाल की शिकायत पर असंध थाना पुलिस ने गांव धर्मगढ़ निवासी विनोद, असंध निवासी मकान मालिक कृष्ण, गांव फफड़ाना निवासी संजय तथा एम्बुलेंस चालक अमरदीप के खिलाफ पीएनडीटी एक्ट समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

लिंग जांच कराने के दो आरोपित।
X
स्वास्थ्य विभाग की टीम में गिरफ्त में लिंग जांच कराने के दो आरोपित।

हरिभूमि न्यूज : जींद

जींद स्वास्थ्य विभाग(Health Department) की टीम ने असंध में छापेमारी कर लिंग जांच (Gender check) करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। मकान में रखी पॉर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन (Portable Ultrasound Machine) से लिंग जांचा जा रहा था। छापामार टीम ने मकान मालिक समेत दो लोगों को काबू कर लिया, जबकि दो लोग फरार होने में कामयाब हो गए। फिलहाल असंध थाना पुलिस (Police) मामले की जांच कर रही है।

स्वास्थ्य विभाग को सूचना मिली थी कि गांव धर्मगढ़ निवासी विनोद गर्भ में लिंग जांच करने वाले गिरोह में शामिल है। वह इलाके की गर्भवती महिलाओं को लिंग जांच के लिए ले जाता है। गिरोह का भंडाफोड़ करने की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डा. प्रभू दयाल को सौंपी गई। जिसकी टीम में एक गर्भवती महिला को शामिल किया गया। फिर डिकोए के माध्यम से विनोद से संपर्क साधा गया तो उसने 50 हजार रुपये की डिमांड की। सबकुछ तय होने के बाद गर्भवती महिला को विनोद असंध ले गया। जहां से एक दूसरा बाइक सवार महिला को रत्तक रोड असंध एक मकान पर ले गया, जहां पर पॉर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन से उसके गर्भ में लिंग की जांच की गई और गर्भ में लड़का बताया गया। जिसके बाद बाइक पर ले जाने वाला दूसरा व्यक्ति गर्भवती महिला को दूसरे रास्ते से महिला को छोड़ गया।

जब स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मकान पर छापेमारी की तो अल्ट्रासाउंड कर लिंग की जांच करने वाला व्यक्ति तथा महिला को छोड़ने वाला व्यक्ति वहां से गायब हो चुके थे। विनोद भी बाइक से सफीदों के लिए निकल चुका था। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने करनाल स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुला लिया और पॉर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन को कब्जे में ले मकान मालिक को काबू कर लिया। बाद में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पीछा कर गांव धर्मगढ़ निवासी विनोद को भी काबू कर लिया। तलाशी लिए जाने पर उसके कब्जे से साढ़े 14 हजार रुपये की नकदी बरामद हुई। जिन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।

पकड़े गए लोगों से स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई पूछताछ में सामने आया कि अल्ट्रासाउंड मशीन से जांच गांव फफड़ाना निवासी संजय ने की थी, जो पहले अल्ट्रासाउंड केंद्र पर कार्य कर चुका है। जो व्यक्ति महिला को असंध के सालवन चौंक से लेकर घर में बने अल्ट्रासाउंड मशीन तक लेकर गया वह असंध निवासी अमरदीप है। जो निजी अस्पताल की एम्बुलेंस चलाता है। स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डा. प्रभूदयाल की शिकायत पर असंध थाना पुलिस ने गांव धर्मगढ़ निवासी विनोद, असंध निवासी मकान मालिक कृष्ण, गांव फफड़ाना निवासी संजय तथा एम्बुलेंस चालक अमरदीप के खिलाफ पीएनडीटी एक्ट समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस पकड़े गए लोगों से पूछताछ कर रही है।




Next Story