Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान के खाटू धाम में फाल्गुनी मेला 17 मार्च से, दर्शन के लिए श्रद्धालुओं को करना होगा यह काम

मेले में जाने से पहले श्रद्धालुओं को मंदिर की वेबसाइट पर ऑनलाइन पंजीकरण भी कराना होगा। मेला कमेटी ने इस बार बाबा ध्वज लेकर आने पर भी पाबंदी लगाई है।

राजस्थान के खाटू धाम में फाल्गुनी मेला 17 मार्च से, दर्शन के लिए श्रद्धालुओं को करना होगा यह काम
X

खाटूधाम का मुख्य द्वार।

हरिभूमि न्यूज : नारनौल

राजस्थान के खाटूधाम में लगने वाला बाबा श्रीश्याम का फाल्गुनी मेला इस वर्ष 17 मार्च से 26 मार्च तक लगेगा। इस बार बाबा के दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं को अपने साथ कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट साथ लेकर जानी हो अन्यथा वे दर्शन करने से वंचित रह जाएंगे। वहीं दूसरी ओर मेले को लेकर मंदिर कमेटी आयोजन की तैयारियों में जुट गई है। वहीं मेले में जाने से पहले श्रद्धालुओं को मंदिर की वेबसाईट पर ऑनलाइन पंजीकरण भी कराना होगा। मेला कमेटी ने इस बार बाबा ध्वज लेकर आने पर भी पाबंदी लगाई है।

बता दे कि कोरोना महामारी के चलते इस वर्ष मेले के आयोजन को लेकर श्रीश्याम बाबा मंदिर कमेटी व सीकर जिला प्रशासन ने कई बदलाव किए हैं। इसलिए इन बदलावों के बारे में श्रद्धालुओं का जानना बहुत जरूरी है, तभी वे बाबा के दर्शन कर पाएंगे। मंदिर कमेटी व जिला प्रशासन की ओर से किए गए बदलाव के अनुसार कोरोना महामारी के चलते श्रद्धालुओं को श्याम बाबा के दर्शन करने के लिए मंदिर कमेटी की वेबसाइट पर पहले ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा। कमेटी के अनुसार मेले में 17 से 26 मार्च तक रोजाना लगभग 35 हजार श्रद्धालु श्याम बाबा के दर्शन कर सकेंगे। इन श्रद्धालुओं को 72 घंटे पहले करवाई गई कोरोना नेगेटिव जांच रिपोर्ट साथ लेकर जानी होगी। कमेटी ने कहा कि फर्जी जांच रिपोर्ट लाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसलिए खाटू श्याम मेले में जाने वाले श्रद्धालु जल्द से जल्द मोबाइल या कम्प्यूटर से मंदिर की वेबसाइट पर अपना पंजीकरण करवा लें।

लगाए जाएंगे 450 स्थाई व अस्थाई बेरिकेट्स

इस बारे में एसडीएम दातारामगढ़ अशोक कुमार रणवां ने बताया कि खाटू श्याम मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की जांच के लिए 125 काउंटर लगाए जाएंगे। जिनमें श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य की जांच करवाकर मेले में जाने की इजाजत दी जाएगी। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए काउंटरों पर 300 स्वास्थ्य कर्मचारी तैनात रहेंगे, जो श्रद्धालुओं के स्वास्थ्य की जांच करेंगे। इसके अलावा मेले में 17 मेडिकल टीमें भी लगाई जाएगी। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए 30 लाख पानी के पाउच उपलब्ध करवाए जाएंगे। वहीं 450 स्थाई व अस्थाई बेरिकेट्स लगाए जाएंगे। मेले मे वैक्शीनेशन किए हुए कर्मचारी व 18 वर्ष से ऊपर आयु के स्काउट्स सेवाएं देंगे। इसके अलावा मेले पर नजर रखने के लिए 300 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।

झूले व भंडारे लगाने पर रोक

मेले में अग्निशमन, क्रेन व जिगजैग सहित तमाम व्यवस्थाएं प्रशासन व पुलिस की देखरेख में होगी। मेले में इस बारे झांकी, दुकानें, झूले व भंडारे लगाने पर रोक रहेगी। वहीं धर्मशाला में भी व्यक्ति सिर्फ तीन दिन ही रूक सकेगा। इसके अलावा एकादशी को निकलने वाली बाबा श्याम की रथयात्रा आयोजन सिर्फ मंदिर परिसर में ही किया जाएगा।

Next Story