Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कई वर्षों से जारी बजरी का अवैध खनन, शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं

अब तो हालात यह हो गए हैं कि अन्य दूसरे गांवों के लोग भी ढाणी बाठोठा की नदी में बजरी का अवैध खनन करने लगे हैं। जिससे नदी के साथ लगते खेतों में कटाव की स्थिति पैदा हो गई हैं, गहरे-गहरे गड्ढे बन गए हैं। साथ ही हरे पेड़ों को भी काटा जा रहा हैं। जिससे वातावरण प्रदूषित हो रहा हैं।

Illegal mining
X

नांगल चौधरी। गांव ढाणी बाठोठा नदी में किया जा रहा बजरी का अवैध खनन। 

हरिभूमि न्यूज : नांगल चौधरी

गांव ढाणी बाठोठा में पिछले कई वर्षों बजरी का अवैध खनन (Illegal mining) का कार्य जोरों पर चल रहा हैं। ग्राम पंचायत द्वारा नामजद शिकायत (Complaint) करने के बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही हैं। जिससे अवैध खनन करने वाले लोगों के हौसले बुलंद हो रहे हैं। अब तो हालात यह हो गए हैं कि अन्य दूसरे गांवों के लोग भी ढाणी बाठोठा की नदी में बजरी का अवैध खनन करने लगे हैं। जिससे नदी के साथ लगते खेतों में कटाव की स्थिति पैदा हो गई हैं, गहरे-गहरे गड्डे बन गए हैं। साथ ही हरे पेड़ों को भी काटा जा रहा हैं। जिससे वातावरण प्रदूषित हो रहा हैं।

यदि कभी नदी में तेज पानी आता हैं तो अवैध खनन के चलते खेतों के पास हो रहे कटाव के कारण नदी का पानी गांव में घुस सकता हैं और ग्रामीणों को नुकसान पंहुचा सकता हैं। यह भी बताना जरूरी हैं कि जिला उपायुक्त अवैध खनन को लेकर गंभीर हैं। उन्होंने कार्यभार संभालते ही जिले की सभी नदी, माइनिंंग व पहाड़ों का दौरा किया था। जिसके बाद सभी विभागीय अधिकारियों व टास्क फोर्स की मिटिंग ली थी। जिसमें अधिकारियों को अवैध खनन करने वालों पर सख्ती से कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। परंतु बावजूद इसके ढाणी बाठोठा नदी में अवैध खनन का कार्य जोरों पर चल रहा हैं।

इस बारे में ग्राम पंचायत ने 30 अप्रैल को प्रस्ताव पास कर जिला उपायुक्त, टास्क फोर्स व पुलिस को नामजद लोगों के खिलाफ शिकायत दी गई थी। जिसके बाद अधिकारियों ने नदी में हो रहे अवैध खनन का जायजा लिया और कार्रवाई के नाम पर केवल औपचारिकता ही की गई, कोई ठोस कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई। जिसके बाद फिर से पंचायत ने मिटिंग बुलाकर 9 अक्टूबर को प्रस्ताव रखा कि नदी में अवैध खनन का कार्य जोरों पर चल रहा हैं। साथ ही हरे पेड़ों को नुकसान पहुंचाया जा रहा हैं। जिससे वातावरण खराब हो रहा हैं। जिससे पंचायत ने सभी सदस्यों से विचार करने के बाद गांव द्वारा नदी तथा जंगलात में एक चौकीदार रखने का निर्णय लिया। परंतु चौकीदार रखने के बाद भी अवैध खनन करने वाले बेरोक-टोक अवैध खनन करने में लगे हुए हैं। ग्राम पंचायत ने जिला प्रशासन से अवैध खनन करने वाले लोगों पर कार्रवाई करने की मांग की हैं।

यह कहती हैं सरपंच

इस बारे में गांव ढाणी बाठोठा की सरपंच बबली देवी ने बताया कि नदी में अवैध खनन के साथ जगलात में खडे़ हरे पेड़ों को भी नुकसान पहुंचाया जा रहा हैं। इस बारे में पुलिस व खनन विभाग को शिकायत भी दी जा चुकी हैं। परंतु कोई कार्रवाई नहीं की जा रही हैं।


Next Story