Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसानों को भुगतान न करने वाले पांच हजार आढ़तियों की पहचान

इन आढ़तियों ने धान व सरसों दोनों ही फसलों का लगभग 29 सौ करोड़ ले लिया, जबकि किसानों को तय समय सीमा में देने में देरी की है।अब इसने ब्याज सहित रकम वसूल की जाएगी।

फसल का 72 घंटे में भुगतान का दावा फेल, किसानों के 19 करोड़ अटके
X
किसान

योगेंद्र शर्मा: चंडीगढ़

प्रदेश किसानों का भुगतान लेकर उन्हें देने में देरी करने वाले आढ़तियों को चिन्हित कर लिया गया है। इनकी संख्या करीबन पांच हजार बतायी गई है, जिनसे ब्याज सहित रकम वसूल की जाएगी। इन आढ़तियों ने धान व सरसों दोनों ही फसलों का लगभग 29 सौ करोड़ ले लिया, जबकि किसानों को तय समय सीमा में देने में देरी की है।

वैसे, अब हरियाणा के किसानों का भुगतान मात्र चार फीसदी रह गया है, किसानों को भेजने की प्रक्रिया जारी है। आंकड़ों पर गौर करें, तो इस बार के धान, सरसों के सीजन में 96.06 फीसदी भुगतान कर दिया गया है। जबकि बकाया 3.94 फीसदी रह गया है, उसको लेकर भी प्रक्रिया जारी है। गेहूं खरीद के बाद में अगर भुगतान के आंकड़े पर गौर करें, तो 12,487.67 करोड़ की राशि दी गई है, भुगतान की प्रक्रिया को लेकर राशि पर ध्यान दें, तो यह राशि 191.20 करोड़ है। कुल मिलाकर इस बार पहले राशि आढ़तियों के पास में भेजी गई। आढ़तियों को यह राशि तीन दिनों के अंदर किसानों के खातों में डालनी थी, लेकिन राज्य के लगभग पांच हजार आढ़तियों ने खातों में आई राशि को निर्धारित अवधि तो क्या कईं दिनों तक किसानों को नहीं दिया। जिसके बाद में राज्य सरकार के आला अफसरों को अगले सीजन से पैसा सीधा ही किसानों के खातों में डालने का फैसला लेना पड़ गया है। बताया जा रहा है कि पांच हजार आढ़तियों को इस लापरवाही औऱ देरी के लिए नोटिस भेजे जा रहे हैं। इसके अलावा उनसे पंद्रह फीसदी ब्याज की वसूली की तैयारी है। अगर रकम और ब्याज देने में कोई आनाकानी की गई, तो अब कार्रवाई की बारी है।

नोिटस भेज जा रहे

पूरे मामले में सीएम व कृषिमंत्री के साथ साथ आला अफसर नजर बनाए हुए हैं।विपक्ष द्वारा इस देरी को मुद्दा बनाया गया औऱ बिना वजह सरकार की किरकिरी हुई। इस के बाद में अब इस मामले में दोषियों को नहीं बख्शने का फैसला ले लिया गया है। यहां पर उल्लेखनीय है कि सरकार की ओर से 96 फीसदी भुगतान आढ़तियों के पास भेज दी गई लेकिन उनके खातों में ही पड़ी रही। काफी संख्या में किसानों के खातों में आढ़तियों ने पैसा ट्रांसफर कर दिया लेकिन पांच हजार आढ़ती इस तरह के चिन्हित किए गए हैं, जिन्होंने चेतावनी के बाद भी पैसा देने में जल्दी नहीं दिखाई। इस तरह के लोगों को सूचीबद्ध कर लिया गया है।

इन पर कार्रवाई की तैयारी है, ब्याज की वसूली के साथ ही अगली बार के लिए तैयारी कर ली गई है। यहां पर यह भी याद दिला दें कि हरियाणा में किसानों को अगले धान के सीजन से सीधा पैसा उनके खातों में दिया जाएगा। सरकार की ओर से साफ कर दिया गया है कि अगले धान के सीजन में किसानों को सीधा पैसा उनके खातों में भेजा जाएगा। अर्थात आढ़तियों के खाते में पैसा भेजा जाना पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा।

लापरवाही और देरी बर्दाश्त नहीं होगी: पीके दास

हरियाणा खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने पूछे जाने पर कहा कि हमने पूरे मामले में देरी करने वाले आढ़तियों को चिन्हित कर लिया है। देरी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा बल्कि उनसे पंद्रह फीसदी ब्याज की वसूली होगी। श्री दास का कहना है कि अगले सीजन से हमने किसानों के खाते में सीधा पैसा भेजने की व्यवस्था कर दी है।

Next Story