Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

HPSC भर्ती फर्जीवाड़ा : अनिल नागर समेत तीनों आरोपियों के खिलाफ विजिलेंस ने किया चालान पेश

आरोपियों के खिलाफ विभाग द्वारा तफ्तीश जारी है तथा हैंडराइटिंग, वाइस सैंपल आदि की रिपोर्ट एफएसएल मधुबन से आनी बाकी है। एफएसएल मधुबन से रिपोर्ट आने के बाद आरोपियों के खिलाफ सप्लीमेंट्री चालान भी जल्द पेश किया जाएगा।

HPSC भर्ती फर्जीवाड़ा : अनिल नागर समेत तीनों आरोपियों के खिलाफ विजिलेंस ने किया चालान पेश
X
 अनिल नागर सहित तीनाें आराेपियों को लेकर जाती विजिलेंस टीम। फाइल फोटो

हरियाणा राज्य सतर्कता ब्यूरो ( vigilance ) द्वारा आज हरियाणा लोक सेवा आयोग HPSC बोर्ड के भर्ती मामले में पकड़े गए तीन आरोपियों के खिलाफ चालान पेश किया गया है। ब्यूरो प्रवक्ता के अनुसार 14 जनवरी को अनिल नागर, नवीन तथा अश्विनी के खिलाफ पंचकूला न्यायालय में चालान पेश किया गया तथा राज्य सतर्कता विभाग द्वारा यह चालान 2 महीने के अंदर पेश किया गया है।

प्रवक्ता ने आगे बताया कि उपरोक्त आरोपियों के खिलाफ विभाग द्वारा तफ्तीश जारी है तथा हैंडराइटिंग, वाइस सैंपल आदि की रिपोर्ट एफएसएल मधुबन से आनी बाकी है। एफएसएल मधुबन से रिपोर्ट आने के बाद उपरोक्त आरोपियों के खिलाफ सप्लीमेंट्री चालान भी विभाग द्वारा जल्द ही न्यायालय में पेश किया जाएगा। मामले की तह तक जाने के लिए आगे की तफ्तीश बभी जारी है और अन्य आरोपियों की संलिप्तता की संभावनाओं से इनकार नही किया जा सकता। सभी दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

यह था पूरा मामला

आपको बता दें कि स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने 19 नवबंर को हरियाणा लोक सेवा आयोग के उप सचिव अनिल नागर और दो युवकों को गिरफ्तार किया था। आरोपी 26 सितंबर को एचपीएससी द्वारा आयोजित डेंटल सर्जन की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा में उपस्थित हुए उम्मीदवारों के अंकों में हेरफेर करने में शामिल थे। 17 नवम्बर को एफआईआर दर्ज कराने के बाद छापेमारी की गई और नवीन कुमार निवासी जिला भिवानी को 20 लाख की नकद राशि देते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया। उसे 18 नवंबर 21 को अदालत के सामने पेश किया गया था और उसे 4 दिनों के लिए पुलिस हिरासत में लिया गया। जांच के दौरान अश्वनी शर्मा निवासी जिला झज्जर को गिरफ्तार किया और उसके घर की तलाशी के दौरान नकद राशि 1 करोड़ 7 लाख 97 हजार बरामद की। आगे की जांच के बाद, एसवीबी ने अनिल नागर, एचसीएस, उप सचिव, हरियाणा लोक सेवा आयोग को गिरफ्तार किया था। बाद में अनिल नागर को हरियाणा लोक सेवा आयोग से बर्खास्त कर दिया गया था।

और पढ़ें
Next Story