Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रोहतक कोर्ट में 30 अप्रैल तक सुनवाई बंद, पेशी पर भी रोक, ये मामले ही सुने जाएंगे

वकीलों को भी केवल एक जूनियर या क्लर्क के साथ कोर्ट में प्रवेश मिलेगा। इसके अलावा फरियादियों की व्यक्तिगत पेशी बंद कर दी गई है। जेल में न्यायिक हिरासत में बंद हवालातियों की भी वीसी से पेशी की जाएगी।

रोहतक कोर्ट में 30 अप्रैल तक सुनवाई बंद, पेशी पर भी रोक, ये मामले ही सुने जाएंगे
X

हरिभूमि न्यूज : रोहतक

कोरोना के बढ़ते मामले जिला अदालत के लिए परेशानी बनने लगे हैं। शुक्रवार को सेशन जज एएस नारंग ने कोर्ट में लम्बित मामलों में सुनवाई पर 30 अप्रैल तक के लिए रोक लगा दी। केवल जरूरी मामलों में ही कोर्ट में सुनवाई होगी। वकीलों को भी केवल एक जूनियर या क्लर्क के साथ कोर्ट में प्रवेश मिलेगा। इसके अलावा फरियादियों की व्यक्तिगत पेशी बंद कर दी गई है। जेल में न्यायिक हिरासत में बंद हवालातियों की भी वीसी से पेशी की जाएगी। सेशन जज ने कहा इन मामलों में हवालातियों की वीडियो कांफ्रेसिंग से पेशी सुनिश्चित करवानी होगी। केवल उन्हीं मामलों में आरोप तय किए जाएंगे जिनमें समय सीमा तय है।

सेशन जज एएस नांरग की तरफ से पत्र में बताया गया है कि कोरोना बार बार अपना रूवरूप बदल रहा है जिससे संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। इसलिए एहतियात बेहद जरूरी हैं। पहले ही कोर्ट में 19 संंक्रमित मिल चुके हैं। आदेशों में कहा गया है कि लम्बित मामलों में व्यक्तिगत पेशी नहीं होगी। इन मामलों में सुनवाई पर रोक लगाई जाती है। केवल बेल, सुपरदारी और स्टे मैटर पर सुनवाई की जाएगी। जेल में विभिन्न मामलों में बंद हवालातियों को भी कोर्ट में व्यक्तिगत रूप से पेश नहीं किया जाएगा।

कोरोना रिपोर्ट जरूरी

जिन व्यक्तिों को मुकदमों में गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जाएगा, उनका पहले पुलिस कोविड टैस्ट करवा कर लाएगी। रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही कोर्ट में पेशी होगी। जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव मिलती है उन्हें अस्पताल में उपचाराधीन करवाना होगा।

सेशन जज से मुलाकात कर मांग की गई थी कि कोरोना के चलते जरूरी मामलों में ही सुनवाई की जाए। क्योंकि कोर्ट में भीड़ होने की वजह से कोरोना के मामले बढ़ सकते हैं, जिसके बाद सेशन जज ने लम्बिम मामलों में सुनवाई पर 30 अप्रैल तक के लिए रोक लगा दी है। वकील भी केवल एक जूनियर या क्लर्क के साथ कोर्ट आ सकेंगे। फरियादियों की व्यक्तिगत पेशी पर कोर्ट ने रोक लगा दी है।- एडवोकेट प्रमोद दलाल, प्रधान जिला बार एसोसिएशन

पेशी केवल वीसी से करवाई जाएगी

कोरोना के चलते विभाग द्वारा सावधानी बरती जा रही है। जेल में न्यायिक हिरासत में बंद हवालातियों की कोर्ट में पेशी केवल वीसी से करवाई जाएगी। इसके अलावा अलग अलग मामलों में गिरफ्तार किए जाने वाले आरोपितों के कोविड टेस्ट करवाए जाएंगे। गोरखपाल राणा, डीएसपी हेडक्वाटर

Next Story