Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्वास्थ्यकर्मी अंदर जपते रहे राम का नाम, बाहर आधे घंटे तक तड़पती रही गर्भवती

वहां चिकित्सक नहीं होने के कारण स्टाफ नर्स (staff nurse) ने उसकी पत्नी को रेफर कर दिया और उसे नागरिक अस्पताल सोनीपत में ले जाने के लिए कहा। इसके बाद उसने अपनी पत्नी को दोबारा ऑटो में बैठाया और वह उसे लेकर अस्पताल में पहुंच गया।

स्वास्थ्यकर्मी अंदर जपते रहे राम का नाम, बाहर आधे घंटे तक तड़पती रही गर्भवती
X

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत। गांव जुआं स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात कर्मचारी पर लापरवाही (Negligence) करने के आरोप का मामला सामने आया हैं। आरोपित कर्मचारी पूजा-पाठ में व्यस्थ रही, जबकि केंद्र पर गर्भवती महिला आधे घंटे तक तड़पती रही।

उसके बाद कर्मचारी ने गर्भ में बच्चे को उल्टा बताकर नागरिक अस्पताल में रेफर कर दिया। नागरिक अस्पताल के प्रसूति विभाग में तैनात महिला स्टाफ कर्मचारियों ने सुरक्षित डिलीवरी करवाई। महिला ने बच्ची को जन्म दिया। जुआं सीएचसी से लापरवाही का मामला सामने आ चुका हैं।

उक्त मामले में डिलीवरी के बाद महिला ने अस्पताल में दम तोड़ दिया था। जिसकी जांच जिला प्रशासनिक अधिकारी व स्वास्थ्य अधिकारी (Health officer) कर रहे हैं। गांव बड़वासनी निवासी राशिद ने बताया कि रविवार सुबह उसकी पत्नी नर्जीना को प्रसव पीड़ा तेज हुई तो आन-फानन में वह ऑटो में पत्नी को लेकर जुआं सीएचसी पर पहुंचा।

वहां पर स्टाफ नर्स नहीं मिली। इस पर उसने नाराजगी जताते हुए स्टाफ नर्स को उसके क्वार्टर पर सीएचसी में गर्भवती के आने की सूचना दी। स्टाफ नर्स के आने तक सीएचसी में गर्भवती नर्जीना आधे घंटे तक तड़पती रही। कुछ समय पर स्टाफ नर्स ने गर्भ में बच्चा उल्टा बताकर रेफर कर दिया। राशिद का आरोप है कि किसी भी महिला को रेफर करते समय अस्पताल से एंबुलेंस मुहैया कराने का प्रावधान है।

उसके बाद वहां चिकित्सक नहीं होने के कारण स्टाफ नर्स ने उसकी पत्नी को रेफर कर दिया और उसे नागरिक अस्पताल सोनीपत में ले जाने के लिए कहा। इसके बाद उसने अपनी पत्नी को दोबारा ऑटो में बैठाया और वह उसे लेकर अस्पताल में पहुंच गया।

वर्जन

गर्भवती को आधे घंटे लेट देखने व उसे एंबुलेंस मुहैया न करवाने का मामला संज्ञान में नहीं हैं। मामले को लेकर स्टाफ कर्मचारी से पूछताछ की जायेगी। जांच के बाद लापरवाही मिलती हैं, तो विभागीय कार्रवाई के लिए उच्च अधिकारियों को लिखा जायेगा। - डॉ. संजय छिक्कारा, एसएमओ सीएचसी जुआं।

Next Story