Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत बंद में थमा रहा हरियाणा, रोडवेज को भी लगा करोड़ों का फटका

हरियाणा रोडवेज की चार हजार से ज्यादा बसों का पहिया जाम ही रहा, शाम को हालात सामान्य होने पर ही बसों को सड़कों पर उतारा गया। दिनभर बसों का संचालन बंद रहने के कारण हरियाणा रोडवेज का करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है।

हरियाणा रोडवेज बसों से सफर करना होगा महंगा, जानिए कितना बढ़ा बस किराया
X
हरियाणा रोडवेज की बसें (फाइल)

चंडीगढ़। प्रदेश में तीन कृषि बिलों को लेकर भारत बंद के आह्वान के कारण हरियाणा रोडवेज की चार हजार से ज्यादा बसों का पहिया जाम ही रहा, शाम को हालात सामान्य होने पर ही रोडवेज की बसों को सड़कों पर उतारा गया। सभी जिलों में अधिकांश बसें डिपुओं के अंदर खड़ी रहीं देर शाम को रोडवेज बसों का संचालन सुचारू हो सका। दिनभर बसों का संचालन बंद रहने के कारण हरियाणा रोडवेज को करोड़ों की चपत लगी है।

दिनभर किसान आंदोलन, धरने प्रदर्शन के कारण हरियाणा प्रदेश के अधिकांश जिलों में रास्तों को बाधित करने के साथ-साथ यातायात भी प्रभावित रहा। प्रदेश मुख्यालय चंडीगढ़, पंचकूला, मोहाली में दर्जनों स्थानों पर किसानों रास्ते बंद कर प्रदर्शन किया, जिसके कारण यातायात पर प्रतिकूल प्रभाव देखा गया। इतना ही नहीं राज्य के विभिन्न हिस्सों, ,सभी जिलों में किसान आंदोलन का पूरा प्रभाव दिखाई दे रहा है।

दूसरी ओर तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों द्वारा किया गया भारत बंद को लेकर सूबे के गृहमंत्री अनिल विज और आला अफसरों ने कहा कि पूरे प्रदेश में बंद की अपील और आंदोलन शांतिपूर्ण ढंग से रहा है। राज्य के किसी भी हिस्से से किसी तरह की कोई अनहोनी घटना की सूचना नहीं हैं। पुलिस की ओर से भी जारी एक सूचना में कहा गया है कि बंद का प्रभाव मुख्य रूप से सड़कों व रेल ब्लॉक के रूप में देखा गया और इंटरसिटी सड़कों तथा रेल यातायात में बाधा उत्पन्न हुई, लेकिन शहरों और कस्बों के भीतर गतिविधियों पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ा। राज्य के गुरुग्राम, फरीदाबाद, नारनौल, रेवाड़ी और नूंह जिलों में बंद के आह्वान का कोई असर नहीं दिखा।

शांतिपूर्वक रहा भारत बंद

भारत बंद का आह्वान हरियाणा में शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ। हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि भारत बंद का प्रभाव मुख्य रूप से सड़कों व रेल ब्लॉक के रूप में देखा गया और इंटरसिटी सड़कों तथा रेल यातायात में बाधा उत्पन्न हुई, लेकिन शहरों और कस्बों के भीतर गतिविधियों पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ा। राज्य के गुरुग्राम, फरीदाबाद, नारनौल, रेवाड़ी और नूंह जिलों में बंद के आह्वान का कोई असर नहीं दिखा। राज्य में किसी भी तरह की हिंसक घटना की सूचना नहीं मिली।

Next Story