Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा बजट सत्र : विज ने हुड्डा से पूछा - आप G 23 में हैं या गांधी की कांग्रेस में

हरियाणा विधानसभा बजट-सत्र के अंतिम दिन की कार्यवाही में सत्तापक्ष ने छह विधेयक पारित किए, जिसमें सबसे ज्यादा विरोध विपक्ष कांग्रेस की ओर से संपत्ति क्षति वसूली विधेयक 2021 को लेकर किया गया।

हरियाणा बजट सत्र : विज ने हुड्डा से पूछा - आप G 23 में हैं या गांधी की कांग्रेस में
X

हरियाणा विधानसभा बजट-सत्र के अंतिम दिन की कार्यवाही में सत्तापक्ष ने छह विधेयक पारित किए, जिसमें सबसे ज्यादा विरोध विपक्ष कांग्रेस की ओर से संपत्ति क्षति वसूली विधेयक 2021 को लेकर किया गया। उक्त विधेयक गृहमंत्री अनिल विज ने पेश किया और इसके बारे में सदन को बताने खड़े हुए, तो कांग्रेस की ओर से इसका जमकर विरोध करते हुए सदन में स्पीकर की चेयर के सामने वैल में जाकर तानाशाही नहीं चलेगी नारेबाजी की। नेता विपक्ष व पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। सदन में तीन कृषि कानूनों, किसानों के धरने प्रदर्शन, किसानों को ट्यूबवैल कनेक्शनों जैसे विषयों पर सदन में लंबी चर्चा चलीं। स्कूलों को बंद करने, शिक्षकों की कमी जैसे विषय भी सदन में गूंजे। जिस पर शिक्षा मंत्री ने जवाब दिए।

गुरुवार की सुबह दस बजे सदन की कार्यवाही प्रश्नकाल से शुरु हुई। सदन में दो विधायकों अभय सिंह यादव सत्तापक्ष भाजपा की ओर से और कांग्रेस के वरुण मुलाना को श्रेष्ठ विधायक इस साल के खिताब से नवाजा गया। दोनों को एक एक लाख की राशि व प्रशंसा पत्र के साथ ही एक स्मृति चिन्ह भी दिया गया। जिस समय निजी व सरकारी प्रापर्टी को लेकर विधेयक लाया गया, तो सदन में जमकर हंगामा होने लगा। इस पर गृहमंत्री अनिल विज ने खड़े होकर विपक्षी नेताओं से दर्जनों सवाल दागे, जिसमें क्या तुम लोग रेल, बसें, लोगों की दुकानें जलाने वालों के साथ में हो ? दंगाइयों के विरुद्ध कार्रवाई को लेकर कांग्रेस का स्टैंड क्या है? जिस पर नेता विपक्ष औऱ पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा ने जवाब दिया कि वे कानून हाथ में लेने व संपत्ति को जलाने वालों के पक्ष में नहीं हैं लेकिन इस कानून का दुरुपयोग होने का डर है। विपक्ष ने इसमें कईं क्लाज बेहद ही खराब बताए। इसके अलावा बीस फीसदी पैसा पहले जमा करने की क्लाज पर भी आपत्ति की।

सदन में प्रदेश के गृहमंत्री विज ने जहां विपक्ष को आड़े हाथों लिया वहीं सदन के नेता व सीएम मनोहरलाल ने भी कहा कि विधेयक प्रदेश के हितों को देखकर लाया जा रहा है, सदन में मंत्री अगर ब्योरा दे रहे हैें, तो इसमें कोई बुराई नहीं है। डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला का साथ भी विज को मिला जिन्होंने नेता विपक्ष को संसद की कार्यवाही के बारे में याद दिलाया व कहा कि वे ऊपरी सदन में भी रहे हैं, वहां भी कईं विधेयक आते हैं। इसीलिए सदन को गुमराह नहीं करें, बल्कि इसका स्वागत करें, इस विधेयक को लेकर सदन को सारी जानकारी साझा करने में रुकावट नहीं बने। नेता विपक्ष भूपेंद्र सिंह हुडडा और डाक्टर कादियान ने इसे फिलहाल होल्ड करने की मांग सदन में की लेकिन सत्ता पक्ष ने कहा कि इसकी कोई जरूरत नहीं हैं, विपक्ष बिना वजह ही सियासत करने में जुटा है।

इस दौरान कईं बार सीएम और विधानसभा अध्यक्ष ने खड़े होकर सदन को आश्वस्त किया कि भविष्य में किसी भी तरह के बदलाव की जरूरत पड़ी, तो संशोधन भी कर दिया जाएगा। नेता विपक्ष हुड‍्डा ने इस दौरान कहा कि वे जनता के साथ में हैं, लेकिन इस कानून में अभी से बू आ रही है जैसे किसानों के आंदोलन को ध्यान में रखकर इसे बनाया गया हो। विज ने इस दौरान कहा कि यह तो इस आंदोलन से पहले ही ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया था।

उठा एचसीएस विश्वजीत की नियुक्ति का मामला

हरियाणा विधानसभा के अंदर वीरवार को खेल कोटे से लगे एचसीएस विश्वजीत का मामला कांग्रेस की विधायक किरण चौधरी ने उठाया और अंग्रेजी की अखबारों को दिखाकर सीएम से जवाब मांगा। किरण चौधरी ने कहा कि यह क्या मामला है, उक्त युवक की ज्वायनिंग को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। जब एजी और सीएम की ओर से सुप्रीम कोर्ट जाने को लेकर सहमति जतायी गई थी। इसके बाद में सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में मामला क्यों नहीं डाला? जिस पर सीएम ने कहा कि हमारी कोई भी व्यक्तिगत रंजिश नहीं है, कोर्ट के आदेश का पालन कर ज्वायनिंग कराई गई है। भविष्य में जो भी होगा, उसको देखेंगे, उसी हिसाब से फैसला लिया जाएगा। यहां पर उल्लेखनीय है कि पूरे मामले में खेल विभाग के प्रमुख सचिव रह चुके अशोक खेमका ने सवाल उठाए थे। इतना ही नहीं विश्वजीत के पिता जगदीप उस समय खेल विभाग में निदेशक थे, खेमका ने विश्वजीत के सर्टिफिकेट को लेकर सवाल खड़े करते हुए इसे निय़म विरुदध बताया था।

सोमबीर सांगवान ने भी किया कानून का विरोध

निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने भी कानून का यह कहकर विरोध किया कि यह किसानों के आंदोलन को ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है। जिस पर सीएम और गृहमंत्री ने एक बार फिर से कहा कि यह आपके और कांग्रेस नेताओं के दिमाग की उपज है।

जैसा जो करेगा वैसा ही भरेगा

सरकारी और निजी संपत्ति को डैमेज करने वालों से वसूली के विधेयक को लेकर जिस वक्त कांग्रेस की ओऱ से विरोध किया जा रहा था, तो उस दौरान कईं बार स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता को खड़े होकर विधायकों को शांत करना पड़ा। जिस समय कांग्रेसी विधायक हंगामा कर रहे थे, उस दौरान गुप्ता ने तंज कसते हुए कहा कि जो जैसा करेगा, वैसा ही भरेगा भी।

..और जब हुड्डा से विज ने पूछा आप कौन सी कांग्रेस में हैं ?

सदन में विधेयक का विरोध कर रहे नेता विपक्ष भूपेंद्र सिहं हुड्डा ने चुटकी लेते हुए कहा पूछ लिया कि हुड्डा साहब आप जी-23 में हैं, या फिर गांधी की कांग्रेस में। इस पर तनाव भरे माहौल में एकाएक ठहाके लगने शुरु हो गए। इस पर हुडडा ने पलटवार करते हुए विज पर हमला बोला व कहा कि सीएम विज की चलने नहीं देते, पहले सीआईडी वापस ले ली अभी भी इनके कहने से एक पुलिस कर्मी तक की बदली नहीं होती।

Next Story