Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुरुग्राम में लिंग जांच गिरोह का भंडाफोड़, दलाल गिरफ्तार, अल्ड्रासाउंड मशीन लेकर डाक्टर फरार

डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. प्रदीप यादव ने बताया कि उनको सूचना मिली कि पालम विहार इलाके में लिंग जांच का गिरोह काम कर रहा है। अंजलि नाम की एक महिला यूपी व दिल्ली की गर्भवती महिलाओं को गुडग़ांव लाकर लिंग जांच कराने का काम करती है।

गुरुग्राम में लिंग जांच गिरोह का भंडाफोड़, दलाल गिरफ्तार, अल्ड्रासाउंड मशीन लेकर डाक्टर फरार
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

गुरुग्राम। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 35 से 40 हजार रुपये लेकर लिंग जांच करने वाले गैंग का भंडाफोड़ किया है। टीम ने मौके से एक दलाल को गिरफ्तार कर लिया। मामले में आरोपित डॉक्टर पोर्टेबल अल्ड्रासाउंड मशीन लेकर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने आरोपी डॉक्टर सहित सात पर मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. प्रदीप यादव ने बताया कि उनको सूचना मिली कि पालम विहार इलाके में लिंग जांच का गिरोह काम कर रहा है। अंजलि नाम की एक महिला यूपी व दिल्ली की गर्भवती महिलाओं को गुडग़ांव लाकर लिंग जांच कराने का काम करती है। जिसकी एवज में महिला 35 से 40 हजार रुपये लेती है। जिसके बाद डा. प्रदीप कुमार ने डा. हरीश कुमार एमओ, डा. उर्वशी एलएमओ गुरुग्राम को लेकर टीम गठित की। टीम ने गुप्ता दंपती के रुप में एक महिला व पुरुष को उसका पति बनाकर जाल बिछाया। महिला दलाल को गर्भवती महिला के पति बने व्यक्ति ने फोन पर बातचीत की तो अंजलि ने उसे व्हाटसअप नंबर मुहैया कराया। जिसमें दोनों के बीच 40 हजार रुपये में सौदा हो गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रुपये अरेंज कर महिला के पति को दिए। जिनको दलाल महिला ने दिल्ली के प्रीतमपुरा के शिवा मार्केट बुलावाया। दोनों वहां पहुंचे तो अंजलि आधे घंटे बाद वहां आई और रुपये लेकर टैक्सी से उन्हें गोकुलपुरी स्क्रेप मार्केट ले गई।

जहां अंजलि ने फोन करके पंकज कुमार को बुलाया और उसे 15 हजार रुपये दिए। इसके बाद पंकज ने आशु उर्फ असलम नाम के दलाल को फोन करके बुलाया और गुप्ता दंपती को उसके हवाले कर दिया। जिसके बाद असलम गुप्ता दंपत्ति को साथ लेकर गोकलपुरी के मकान नंबर ए-540 में ले गया। इस बीच स्वास्थ्य विभाग की टीम इन पर नजर रखे हुए थी। वहीं दिल्ली की स्थानीय पुलिस व स्वास्थ्य विभाग को भी ज्वाईंट रेड मारने के लिए सूचित कर दिया गया। नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के नोडल आफिसर डा. ललित कुमार व पुलिस को लेकर टीम पूरी कार्रवाई पर नजर रखे हुए थी। जैसे ही असलम मकान से बाहर निकला उसे पकड़ लिया गया। टीम ने दलाल पंकज कुमार को भी दबोच लिया। इस बीच डॉक्टर विजय पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन लेकर मौके से फरार हो गया। टीम को मकान से दलाल तनुज व अमृता मिले। जिन्हाेंने बताया कि यहां पर प्रतिदिन चार से पांच गर्भवती महिलाओं की लिंग जांच की जाती है। इस बीच वहां लोगों की भीड़ लग गई, जिसका फायदा उठाते हुए असलम वहां से फरार हो गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम की शिकायत पर पुलिस ने डा. विजय, अंजलि, पंकज कुमार, असलम, अमृता, तनुज व महेश देवी पर मामला दर्ज कर लिया है।

और पढ़ें
Next Story