Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

2016 से लेकर 2020 तक मरे 2682 वन्य जीव, जिनमें थे 411 काले हिरण

अखिल भारतीय जीव रक्षा बिश्नोई सभा के प्रदेश प्रवक्ता पृथ्वी सिंह बैनीवाल ने बताया कि वन्यजीव संरक्षण के लिए प्रयासरत और जीव रक्षा सभा के हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष विनोद कड़वासरा बड़ोपल ने आरटीआई. के माध्यम से जानकारी ली है

2016 से लेकर 2020 तक मरे 2682 वन्य जीव, जिनमें थे 411 काले हिरण
X

हिसार मंडल के जिला हिसार, फतेहाबाद, सिरसा व भिवानी में 1 जनवरी 2016 से लेकर 31 दिसम्बर 2020 तक पांच साल की अवधि में कुल 2682 वन्यजीव मारे गए है, जिसमें 411 काले हिरण शामिल है।

अखिल भारतीय जीव रक्षा बिश्नोई सभा के प्रदेश प्रवक्ता पृथ्वी सिंह बैनीवाल ने बताया कि वन्यजीव संरक्षण के लिए प्रयासरत और जीव रक्षा सभा के हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष विनोद कड़वासरा बड़ोपल ने आरटीआई. के माध्यम से जानकारी ली है, जिसमें सामने आया कि हिसार मंडल के राजस्थान बार्डर से लगते जिलों में वन्यजीव खात्मे के कगार पर है।

मंडल के इन चार जिलों में कुल 411 कालेहिरण, 68 राष्ट्रीय पक्षी मोर, 35 चिंकारा हिरण, 74 बंदर, 2005 रोझ और 89 अन्य वन्यजीव मौत का शिकार हुए है। यह एक बहुत बड़ा चोंकाने वाला आंकड़ा है।

आरटीआई से प्राप्त जानकारी से कड़वासरा ने निष्कर्ष निकाला कि जिला फतेहाबाद में इन पांच सालों में कुल 862 वन्यजीव जिनमें 176 कालेहिरण, 24 राष्ट्रीय पक्षी मोर, 02 चिंकारा हिरण, 32 बंदर, 605 रोझ और 23 अन्य वन्यजीव मौत का शिकार हुए है।

जिला हिसार में कुल 1273 वन्यजीव जिनमें 216 काले हिरण, 27 राष्ट्रीय पक्षी मोर, 22 चिंकारा हिरण, 09 बंदर, 958 रोझ और 41 अन्य वन्यजीव मौत का शिकार हुए है। जिला सिरसा में कुल 187 वन्यजीव जिनमें 12 काले हिरण, 01 राष्ट्रीय पक्षी मोर, 05 चिंकारा हिरण, 01 बंदर, 163 रोझ और 05 अन्य वन्यजीव मौत का शिकार हुए है। जिला भिवानी में कुल 360 वन्यजीव जिनमें 07 काले हिरण, 16 राष्ट्रीय पक्षी मोर, 06 चिंकारा हिरण, 32 बंदर, 279 रोझ और 20 अन्य वन्यजीव मौत का शिकार हुए है।



Next Story