Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फतेहाबाद के पूर्व विधायक बलवान दौलतपुरिया ने थामा कांग्रेस का हाथ, ये नेता भी Congress में शामिल

हांसी से पूर्व मंत्री अतर सिंह सैनी, फतेहाबाद से पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, दि सिरसा केंद्रीय सहकारी बैंक के पूर्व चेयरमैन व पूर्व मंत्री जगदीश नेहरा के पुत्र सुरेंद्र नेहरा, रानिया विधानसभा से बसपा की टिकट पर चुनाव लड़ चुके बीर सिंह और ऐलनाबाद विधानसभा से डॉ. गुरनाम सिंह को कांग्रेस पार्टी का पटका पहनाकर हरियाणा कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल और हरियाणा कांग्रेस अध्यक्षा कुमारी सैलजा ने पार्टी में शामिल कराया।

फतेहाबाद के पूर्व विधायक बलवान दौलतपुरिया ने थामा कांग्रेस का हाथ, ये नेता भी Congress में शामिल
X

पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया 

Haribhoomi News : फतेहाबाद में भाजपा को झटका लगा है। किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के चलते कुछ समय पूर्व भाजपा को अलविदा कहने वाले पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया (Balwan Singh Doulatpuria) ने गुरुग्राम में कांग्रेस का हाथ थाम लिया। दौलतपुरिया ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा और कांग्रेस प्रदेश प्रभारी विवेक बांसल की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की।

वहीं कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल और हरियाणा कांग्रेस अध्यक्षा सैलजा की मौजूदगी में मंगलवार को प्रदेश के कई बड़े नेताओं ने गुरुग्राम के कमान दिल्ली स्थित पार्टी कार्यालय में कांग्रेस पार्टी का दामन थामा। नेताओं में हांसी से पूर्व मंत्री अतर सिंह सैनी, फतेहाबाद से पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, दि सिरसा केंद्रीय सहकारी बैंक के पूर्व चेयरमैन व पूर्व मंत्री जगदीश नेहरा के पुत्र सुरेंद्र नेहरा, रानिया विधानसभा से बसपा की टिकट पर चुनाव लड़ चुके बीर सिंह और ऐलनाबाद विधानसभा से डॉ. गुरनाम सिंह को कांग्रेस पार्टी का पटका पहनाकर हरियाणा कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल और हरियाणा कांग्रेस अध्यक्षा कुमारी सैलजा ने पार्टी में शामिल कराया।

किसान आंदोलन के चलते फतेहाबाद से पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने 31 जनवरी को अपने पैतृक गांव दौलतपुर में आयोजित किसान पंचायत में पहुंचकर भाजपा छोड़ने की घोषणा की थी। इसके बाद से उनके घर वापसी यानि इनेलो में या कांग्रेस में जाने के क्यास लगाए जा रहे थे। दौलतपुरिया के कांग्रेस में जाने से फतेहाबाद में पहले ही कई गुटों में बंटी कांग्रेस का एक और गुट बनना तय माना जा रहा है।

गौरतलब है कि वर्ष 2014 से 2019 तक बलवान सिंह इनेलो से फतेहाबाद के विधायक रहे। वर्ष 2019 में विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने इनेलो को अलविदा कहते हुए भाजपा का दामन थाम लिया था। उन्हें विधानसभा चुनावों में भाजपा से टिकट मिलने की पूरी उम्मीद थी लेकिन उसी दौरान दुड़ाराम ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर ली। भाजपा ने फतेहाबाद से बलवान सिंह की जगह दुड़ाराम को टिकट दे दी। इसके बाद इन चुनावों में दौलतपुरिया ने आदमपुर से भाजपा प्रत्याशी सोनाली फोगाट के लिए काम किया लेकिन उसके बाद से भाजपा में वे हाशिये पर चल रहे थे।

किसान आंदोलन में भी दौलतपुरिया ने भाजपा में रहते हुए सरकार का विरोध किया और किसानों के समर्थन में अनेक बार ब्यान भी दिए। दौलतपुरिया पर किसानों द्वारा लगातार भाजपा छोड़ने का दबाव बनाया जा रहा था, जिसके चलते 31 जनवरी को उनके पैतृक गांव दौलतपुर में हुई किसान पंचायत में उन्होंने भाजपा छोड़ने की घोषणा कर दी थी। कुछ समय पहले बलवान सिंह दौलतपुरिया की भतीजी के विवाह समारोह में सीएम मनोहर लाल के अलावा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा और इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला के पहुुंचने के बाद से ही उनके इनेलो या कांग्रेस में जाने की चर्चाएं चल रही थी। कुमारी शैलजा की मौजूदगी में उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की।

Next Story