Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सतबीर सिंह कादयान का निधन

सतबीर सिंह कादयानअंतिम संस्कार पानीपत होगा। उनके निधन अनेक राजनीतिक और सामाजिक संगठनों के लोगों ने दुख जताया है।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सतबीर सिंह कादयान का निधन
X

 पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सतबीर सिंह कादयान (फाइल फाेटो)

पानीपत : पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सतबीर सिंह कादयान का शनिवार सुबह निधन हो गया है। कादयान लंबे समय से मधुमेह से पीड़ित थे और दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में उनका उपचार चल रहा था। उनके निधन पर अनेक राजनीतिक और सामाजिक संगठनों के लोगों ने दुख जताया है। इनका अंतिम संस्कार पानीपत होगा।

बता दें सतबीर कादियान का जन्म गांव सिवाह के एक साधारण किसान परिवार में हुआ और उन्होंने युवा अवस्था में राजनीति में प्रवेश किया। चौधरी देवीलाल की राजनीतिक पाठशाला के छात्र रहे कादियान वर्ष 1987 में विधायक बन गए थे। इसके बाद वह वर्ष 1989 से 1992 तक वे इफको के चेयरमैन रहे। 1991 में भी सतबीर सिंह कादियान नौल्था विधानसभा से दूसरी बार लोक दल के टिकट पर विधायक बने वहीं वर्ष 1996 के चुनाव में इन्हें टिकट तो मिला, लेकिन ये चुनाव हार गए। वहीं सन 2000 में इंडियन नेशनल लोक दल के टिकट पर तीसरी नौल्था हलके से विधायक बने और इनेलो की सरकार में विधानसभा अध्यक्ष बनाए गए और इस पद पर वे 2005 तक रहे।

2004 के विधानसभा चुनाव में कादियान का टिकट काट दिया गया और उनकी जगह रामरति को टिकट दिया गया ।सन 2009 के परिसीमन में नोलखा विधानसभा को खत्म कर पानीपत ग्रामीण विधानसभा बनाई गई वही सन 2000 9 के चुनाव में इंडियन नेशनल लोकदल ने सतबीर कादियान के बजाय उनकी पत्नी विमला कादयान को टिकट दिया हालांकि विमला भी चुनाव हार गई सन 2014 के चुनाव में इंडियन नेशनल लोकदल ने सतबीर कादियान और उनके परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट नहीं दिया।

दूसरी ओर सतबीर कादियान ने अजय चौटाला द्वारा बनाई गई जननायक जनता पार्टी को ज्वाइन किया और उनके पुत्र देवेंद्र कादयान उर्फ बिट्टू ने पानीपत ग्रामीण से जज्बा के टिकट पर चुनाव लड़ा हालाकी देवेंद्र चुनाव में हार गए थे। इधर सतबीर कादियान आम आदमी के नेता रहे जनता से उनका जुड़ाव आखरी सांस तक बना रहा जनता की समस्याओं के लिए वे दिन-रात जुटे रहते थे ग्रामीण आंचल की सेवा के लिए सतबीर कादियान को सदैव याद किया जाएगा।

Next Story