Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पहली व दूसरी कक्षा के लिए आज से खुलेंगे स्कूल, बच्चे कोरोना पॉजिटिव मिले तो 10 दिन के लिए करना होगा बंद

इन बच्चों की कक्षा लगाए जाने के दौरान स्कूल संचालकों व अध्यापकों को विशेष ध्यान रखना होगा। छोटे बच्चे न तो मास्क लगा सकते हैं और न ही खुद सेनेटाइजर से हाथ साफ कर सकते हैं।

पहली व दूसरी कक्षा के लिए आज से खुलेंगे स्कूल, बच्चे कोरोना पॉजिटिव मिले तो 10 दिन के लिए करना होगा बंद
X

हरिभूमि न्यूज. जींद

कोरोना संक्रमण के बीच सोमवार से शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार पहली व दूसरी कक्षा के स्कूल खुलने जा रहे हैं। ऐसे में इन बच्चों की स्कूल में कक्षा लगाए जाने के दौरान स्कूल संचालकों व अध्यापकों को विशेष ध्यान रखना होगा। क्योंकि ये छोटे-छोटे बच्चे न तो मास्क लगा सकते हैं और न ही खुद सेनेटाइजर से हाथ साफ कर सकते हैं। ऐसे में अगर जरा सी भी लापरवाही हुई तो उसका भारी खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। पहली व दूसरी कक्षा के स्कूल बुलाए जाने को लेकर शिक्षा विभाग द्वारा दिशा-निर्देश दिए गए हैं जिनके तहत प्रतिदिन सुबह 10 से डेढ़ बजे तक कक्षा लगेगी। माता-पिता की लिखित अनुमति लानी होगी।

जो बच्चा ऑनलाइन पढऩा चाहता है, वह जारी रहेगी और किसी तरह का दबाव नहीं बनाया जाएगा। बच्चों को स्कूल में आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा और न ही उनका नाम काटा जाएगा। बच्चों का प्रतिदिन तापमान चैक कर एप पर डाला जाएगा। जिनका तापमान ज्यादा मिलेगा, उन्हें स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। यदि बच्चा पॉजिटिव मिलता है तो उस कक्षा को 10 दिन के लिए बंद किया जाएगा। यदि एक से अधिक विंग के बच्चे पॉजिटिव मिलते हैं तो 10 दिन के लिए स्कूल ही बंद किया जाएगा। बच्चों के क्लासरूम में साफ.-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाएगा। विद्यालय को सेनिटाइज कराया जाएगा। खंड शिक्षा अधिकारी सुशील जैन ने बताया कि सोमवार से पहली व दूसरी कक्षा के स्कूल खोले जा रहे हैं। शिक्षा विभाग द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों को स्कूल संचालकों को अवगत करवा दिया गया है। इसके साथ ही विभागीय टीमें लगातार स्कूलों पर जांच भी करेंगी।

दिशा-निर्देशों की होगी पालना

कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा जारी एसओपी में जारी निर्देशों की पालना भी जरूरी होगी। इसके तहत विद्यार्थियों व शिक्षकों के तापमान की हर रोज जांच करनी होगी। किसी भी विद्यार्थी या शिक्षक का सामान्य से अधिक तापमान पाए जाने पर स्कूल में उसे प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इसका डाटा संबंधित स्कूल को दैनिक आधार पर विभाग द्वारा उपलब्ध करवाए गए मोबाइल एप पर भी भरना होगा और इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाए गए नोडल अधिकारी के साथ-साथ मुख्य चिकित्सा अधिकारी व डीसी कार्यालय को आवश्यक कार्रवाई हेतु उपलब्ध करवाया जाएगा।

Next Story