Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भ्रूण लिंग जांच करने वालों का पर्दाफाश : स्वास्थ्य विभाग की टीम ने हांसी में निजी अस्पताल पर छापा मारा, चार के खिलाफ केस

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लिंग जांच गिरोह के 4 सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस को शिकायत दे दी है। लिंग जांच गिरोह का खुलासा करने वाली स्वास्थ्य विभाग की टीम में डॉ प्रभु दयाल, डा कामिंद मोंगा, अंकित, अजय शामिल है।

भ्रूण लिंग जांच करने वालों का पर्दाफाश : स्वास्थ्य विभाग की टीम ने हांसी में निजी अस्पताल पर छापा मारा, चार के खिलाफ केस
X

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने हांसी के एक निजी अस्पताल पर छापा मारा। 

हरिभूमि न्यूज, हांसी

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार रात को हिसार सीएमओ के नेतृत्व में हांसी के एक निजी अस्पताल में छापा मारकर लिंग जांच करने के एक मामले का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की टीम की शिकायत के आधार पर अस्पताल संचालक सहित चार के खिलाफ मामला दर्ज कर दो महिलाओं को हिरासत में लेकर मामले की जांच आरंभ कर दी है। अस्पताल पर छापेमारी की कार्रवाई बुधवार दे रात शुरू की गई थी जो गुरुवार सुबह तक जारी रही।

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर हांसी में लिंग जांच गिरोह का पर्दाफाश किया है। विभाग की टीम ने अस्पताल की अल्ट्रासाउंड मशीन, प्रिंटर और अन्य रिकार्ड जब्त कर लिया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लिंग जांच गिरोह के 4 सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस को शिकायत दे दी है। लिंग जांच गिरोह का खुलासा करने वाली स्वास्थ्य विभाग की टीम में डॉ प्रभु दयाल, डा कामिंद मोंगा, अंकित, अजय शामिल है।

टीम के सदस्य डॉ कामिद मोंगा ने बताया कि उन्हें 20 जुलाई को गुप्ता सूचना मिली थी कि हांसी के हिसार चुंगी के पास स्थित उर्मिल धतरवाल के अस्पताल में अल्ट्रासाउंड के द्वारा लिंग जांच की जाती है। सूचना के आधार पर हमनें अपने डिकोय का 23 जुलाई को अल्ट्रासाउंड करवाया। लिंग जांच के 40 हजार में सौदा तय किया गया। अल्ट्रासाउंड के बाद डाक्टर ने अपनी रिपोर्ट नहीं बताई। डिकाय को चिकित्सक ने कहा कि आप अपने दलाल के माध्यम से रिपोर्ट पता करें। इस पर उसने दलाल गीता और पूनम से उससे संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि 15 दिन बाद फाइनल अल्ट्रासाउंड किया जाएगा, उस दिन रिपोर्ट बताई जाएगी।

दलाल गीता और पूनम थी। गीता जिंदल अस्पताल में कार्यरत है और पूनम ने जीएनएम का कोर्स किया है, घर में रहती है और अस्पताल में आती जाती रहती है। 25 जुलाई को गीता ने डिकाय को फोन कर रुपए मांगे और रिपोर्ट देने की बात कही। उस दिन हमारी टीम बाहर थी। हमनें एक दो दिन मांगे। बुधवार को हमें जिंदल अस्पताल के बाहर बुलाया गया कि गीता रिपोर्ट बता देगी। डिकाय ने गीता का सुबह फोन नहीं उठाया। उसके बाद शाम 4 बजे फिर फोन आया कि रिपोर्ट ले जाए और रुपए दे जाए।

पांच बजे डिकाय और महिला साथी से रुपए ले लिए। और इशारा मिलते ही हमनें गीता को रुपयों के साथ आरोपी गीता को मौके पर ही पकड़ लिया। वहां से हम इसे लेकर पूनम के घर गए। पूनम घर पर नहीं थी। बुलाने पर आई तो उसे पकड़ लिया। उसके बाद दोनों को लेकर हांसी के अस्पताल पहुंचे। जहां डिकोय ने दोनों को पहचान लिया कि स्टाफ नर्स जसबीर और डाक्टर उर्मिल धतरवाल ने ही अल्ट्रासाउंड किया।

स्वास्थ्य विभाग ने उसके बाद अस्पताल पर छापा मारकर अल्ट्रासाउंड मशीन सील कर अस्पताल का प्रिंटर व अन्य सामान कब्जे में ले लिया गया। उन्होंने बताया कि इस अस्पताल में लिंग जांच का यह खेल लंबे समय से चल रहा था।

और पढ़ें
Next Story