Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Pashu Kisan Credit Card : कृषि व पशुपालन के लिए अब किसानों को मिलेगा बिना गारंटी के 1.60 लाख रुपये का ऋण

खेती की पैदावार के साथ-साथ दुग्ध उत्पादन व पशुपालन को भी बढ़ावा देना किसान की खुशहाली के लिए अत्यंत आवश्यक है। पशु किसान क्रेडिट कार्ड की सहायता से किसान अपने घर या खेत में गाय, भैंस, भेड़, बकरी, सूकर आदि आसानी से पाल सकता है।

Pashu Kisan Credit Card : कृषि व पशुपालन के लिए अब किसानों को मिलेगा बिना गारंटी के 1.60 लाख  रुपये का ऋण
X

किसानों की बीज से बाजार तक की जिम्मेदारी हरियाणा सरकार कुशलता से वहन कर रही है। हर खेत को पानी देना और किसान को समृद्ध बनाना सरकार का मुख्य मकसद है। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना और पशु किसान क्रेडिट कार्ड की स्कीम शुरू की गई है। हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जयप्रकाश दलाल ने चरखी-दादरी के गांव चांदवास में किसानों को पशुपालन के लिए सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक की ओर से क्रेडिट कार्ड वितरित करते हुए यह जानकारी दी। कृषि मंत्री ने इस अवसर पर 12 गांवों के 325 किसानों को अगभग पांच करोड़ की राशि के कृषि व पशुपालन के लिए क्रेडिट कार्ड प्रदान किए।

उन्होंने कहा कि खेती की पैदावार के साथ-साथ दुग्ध उत्पादन व पशुपालन को भी बढ़ावा देना किसान की खुशहाली के लिए अत्यंत आवश्यक है। पशु किसान क्रेडिट कार्ड की सहायता से किसान अपने घर या खेत में गाय, भैंस, भेड़, बकरी, सूकर आदि आसानी से पाल सकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए तीन लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है और इसे समय पर चुकने पर तीन प्रतिशत ब्याज का अनुदान भी दिया जाता है। इस कार्ड पर 1.60 लाख रुपये तक का लोन बिना प्रतिभूति के लिया जा सकता है। मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना में आज के दिन सबसे अधिक लोन पीकेसीसी कार्ड से दिया जा रहा है।

चांदवास गांव और आसपास से आए किसानों को संबोधित करते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि जो भी बैंक किसानों की भलाई के लिए काम करता है, उसकी उन्नति अपने आप होती चली जाती है। किसान को बीज से बाजार तक की जिम्मेदारी वर्तमान सरकार वहन कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल किसानों के सबसे बड़े हितैषी हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के हर खेत तक पानी पहुंचाने के लिए वह निरंतर प्रयासरत है और इस दिशा में ठोस योजनाएं बनाई जा रही हैं। डी-काडा में किसान अपना पंजीकरण करवाकर 85 प्रतिशत सब्सिडी पर सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली का लाभ उठा सकते हैं। किसान सामुदायिक रूप से अपने खेत में तालाब बनवाना चाहे तो सरकार उसका पूरा खर्च वहन करने को तैयार है।

कृषि मंत्री ने कहा कि किसानों को परंपरागत खेती छोडक़र फसल विविधिकरण की ओर ध्यान देना चाहिए। मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना में फल और सब्जी उगाने वाले किसान को भी जोखिम मुक्त करने का काम किया गया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना या सरकार की ओर से मुआवजा देकर किसान का इस सरकार ने आज तक नुकसान नहीं होने दिया है, अपितु पिछली सरकारों की तुलना में कई गुणा बढ़ाकर किसान की आर्थिक सहायता की गई है।

कृषि मंत्री ने पूर्व विधायक एवं भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह मांढी के आग्रह पर चांदवास में डिजिटल लाइब्रेरी की स्थापना करवाने, नहरी पानी दिलवाने तथा बाढड़ा में उपमंडल कृषि कार्यालय की स्थापना बारे जल्द कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। कृषि मंत्री ने चांदवास स्कूल परिसर में एसएसए योजना के तहत बनवाए गए हाल कमरे का भी उदघाटन किया। उन्होंने बाढड़ा पावर हाउस का भी दौरा किया और वहां खराब पड़े 6 एमवीए के ट्रांसफार्मर को ठीक करवाने या तत्काल बदलने के लिए बिजली विभाग को निर्देश दिए।

और पढ़ें
Next Story