Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कृषि मंत्री JP Dalal के बयान पर बिफरे किसान, बर्खास्त करने की उठी मांग

पूरे प्रदेश में कृषि मंत्री के पुतले फूके गए। अभय चौटाला बोले ऐसे व्यक्ति को सत्ता में बैठने का कोई अधिकार नहीं।

कृषि मंत्री JP Dalal के बयान पर बिफरे किसान, बर्खास्त करने की उठी मांग
X

भिवानी में कृषि मंत्री का पुतला फूंकते युवा कांग्रेसी।

कृषि मंत्री जेपी दलाल द्वारा किसानों के खिलाफ दिए आपत्तिजनक बयान जिसमें उन्होंने आन्दोलनकारी किसानों की शहादत का मजाक बनाया है उस पर रविवार को किसानों और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का गुस्सा सड़क पर दिखा। पूरे प्रदेश में कृषि मंत्री के पुतले फूके गए और उनको सरकार से बर्खास्त करने की मांग की गई।

भिवानी में युवा कांग्रेस द्वारा कृषि मंत्री का पुतला जलाया गया। इस दौरान युवा कांग्रेस के कार्यकर्त्ताओं ने जमकर नारेबाजी की और राज्यपाल से कृषि मंत्री को बर्खास्त करने की मांग की। बहल में गांव के ओबरा में कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल का पुतला जलाया गया।

हिसार में चौधरीवास टोल पर 52 वें दिन भी टोल फ्री धरना जारी रहा जिसकी संयुक्त अध्यक्षता राजेंद्र सिंह कसवा व सत्यवीर शास्त्री ने की। धरनास्थल पर कृषि मंत्री जयप्रकाश द्वारा शहीद हुए किसानों के प्रति बोली गई अभद्र भाषा की कड़े शब्दों में निंदा की। मांग की गई कि भड़काऊ, गैरजिम्मेदाराना, अभद्र भाषा का प्रयोग पर कृषि मंत्री को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त करे।

जींद में किसानों ने उचाना व बद्दोवाल टोल प्लाजा पर कृषि मंत्री के पुतले फूंक कर रोष जताया और कृषि मंत्री के बयान की कड़े शब्दों में निंदा की गई। कृषि मंत्री का किसानों ने पुतला फूंक कर रोष प्रकट किया और उन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त किए जाने की मांग की।

कैथल में भी रविवार को भाकियू जिला अध्यक्ष भारतीय किसान यूनियन होशियार सिंह की अध्यक्षता में किसानों ने कृषि मंत्री जेपी दलाल का पुतला फूंका। इससे पूर्व किसान जवाहर पार्क में एकत्रित हुए। यहां पर किसानों की बैठक भाकियू जिलाध्यक्ष होशियार सिंह गिल ने की। यहां पर किसानों ने जेपी दलाल द्वारा किसानों के प्रति दी गई टिप्पणी पर भारी रोष जताया।

कुरुक्षेत्र में भाकियू व कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने महाराणा प्रताप चौक पर कृषि मंत्री का पुतला फूंककर अपना रोष जाहिर किया। कांग्रेस के प्रदेश संगठन सचिव सुभाष पाली व किसान नेता अक्षय हथीरा ने कहा कि 200 से अधिक किसान अब तक मौत का ग्रास बन चुके है लेकिन दलाल ने कृषि मंत्री होते हुए जो टिप्पणी की है वह किसानों का अपमान है।

गन्नौर में विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष कुलदीप शर्मा ने राज्य कृषि मंत्री जेपी दलाल के विवादास्पद ब्यान की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि जेपी दलाल ने कृषि मंत्री होते हुए जो टिप्पणी की है, उससे किसानों का अपमान हुआ है। उन्होंने आंदोलन में प्राणों का बलिदान देने वाले किसानों का अपमान किया है, जो शर्मनाक है।

रादौर में इंडियन नेशनल लोकदल की ओर से गांव जुब्बल में किसान मजदूर जन जागरण अभियान के तहत सभा का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्यातिथि के रुप में पूर्व विधायक व इनेलो नेता चौ. अभय सिंह चौटाला ने भाग लिया। उन्होंने कृषि मंत्री जेपी दलाल द्वारा किसानाें पर की गई विवादित टिप्पणी की कड़े शब्दों में निंदा की। अभय चौटाला ने कहा कि किसानों पर टिप्पणी करने वाले ऐसे व्यक्ति को सत्ता में बैठने का कोई अधिकार नहीं है। ऐसे व्यक्ति समाज व किसानी के ऊपर कलंक है।

क्या कहा था कृषि मंत्री ने

कृषि मंत्री जेपी दलाल ने किसान आंदोलन में मरे 200 किसानों पर अपरिपक्व बयान देते हुए कहा था कि ये किसान स्वेच्छा से मरे हैं। अगर एक.दो लाख किसान होते है तो उनमें इतने तो घर पर भी मरते हैं। मजाकिया लहजे में उनके प्रति संवेदनाए वक्त की। हालांकि बाद में उन्होंने माफी भी मांग ली थी।

Next Story