Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haryana : 31 जुलाई तक फल व सब्जियों का पंजीकरण कराके भावांतर भरपाई योजना का लाभ उठाएं किसान

कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल(Agriculture Minister Jayaprakash Dalal) ने कहा भावांतर भरपाई योजना बागवानी किसानों को सब्जियों व फलों के लिए उचित दाम दिलाना सुनिश्चित करती है तथा यह योजना किसानों को फसल विविधीकरण की तरफ प्रोत्साहित करने में एक सही कदम है।

Haryana : 31 जुलाई तक फल व सब्जियों का पंजीकरण कराके भावांतर भरपाई योजना का लाभ उठाएं किसान
X

हरिभूमि न्यूज : लोहारू

कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल(Agriculture Minister Jayaprakash Dalal) ने कहा कि सरकार की भावांतर भरपाई योजना बागवानी व सब्जी उत्पादकों के लिए वरदान साबित हो रही है, जो किसान अपनी फसलों का इस योजना के तहत पंजीकरण नहीं करवाया है वे आगामी 15 जुलाई से 31 जुलाई तक अपनी फसलों का पंजीकरण (Registration) करवा सकते हैं। पंजीकृत किसान ही भावांतर भरपाई योजना का लाभ ले सकते हैं।

उन्होंने बताया कि भावांतर भरपाई योजना बागवानी किसानों को सब्जियों व फलों के लिए उचित दाम दिलाना सुनिश्चित करती है तथा यह योजना किसानों को फसल विविधीकरण की तरफ प्रोत्साहित करने में एक सही कदम है। उन्होंने कहा कि मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के तहत बागवानी फसलों में विविधीकरण करने पर 7000 रुपये प्रति एकड़ दिए जा रहे हैं इसके अतिरिक्त यह फसलें भावांतर भरपाई योजना में शामिल कर ली गई है। भावांतर भरपाई योजना के अनुसार सरकार ने फसलों के मूल्य निर्धारित कर दिए हैं।

किसानों की फसल निर्धारित मूल्य से कम मूल्य पर बिकने की स्थिति में अंतर की भरपाई सरकार करेगी। उन्होंने बताया कि खरीफ की फसलों घीया, करेला, भिंडी, फूल गोभी, बैंगन तथा प्याज सहित फल व सब्जियों का पंजीकरण करवाने के लिए समय अवधि निश्चित की गई है। ऐसे में इनकी खेती करने वाले किसान मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर एफएएसएलएचआरवाईडॉटइन पर जाकर अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। इसके अलावा किसान निकटवर्ती ई-दिशा के साथ मार्केटिंग बोर्ड व बागवानी विभाग के कार्यालय में आकर अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि सरकार ने प्याज का 650 रुपये, भिंडी का 1050 रुपये, घीया का 450 रुपये, करेला का 1350 रुपये, बंैगन का 500 रुपये, फूल गोभी का 750 रुपए फसल संरक्षित मूल्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने किसानों से भावांतर भरपाई योजना के तहत अपनी फसल का पंजीकरण करवाने का आह्वान किया है।

और पढ़ें
Next Story