Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आंदोलन खत्म करने के सुझाव पर किसानाें का जवाब : मानवता बची है तो पहले सीएम और डिप्टी सीएम दें इस्तीफा

किसान नेताओं ने कहा कि किसानों पर लाठियां चलवाने वाले मानवता की बात ना करें, किसानों को क्या करना है वह भली भांति जानते हैं।

आंदोलन खत्म करने के सुझाव पर किसानाें का जवाब : मानवता बची है तो पहले सीएम और डिप्टी सीएम दें इस्तीफा
X

 किसान नेताओं की बातें सुनते मंच के सामने बैठे किसान। फाइल फोटो

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत

केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली बॉर्डर पर साढ़े चार महीने से डटे किसानों को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल और उप मुख्यमंत्री दुष्यंत्र चौटाला के सुझाव पर किसान संयुक्त मोर्चा ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि-अगर मानवता बची है, तो पहले दोनों नेता अपने पदों से इस्तीफा दें। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि किसानों के ऊपर लाठियां चलवाने और उन्हें हटाने के लिए वाटर केनन का प्रयोग कराने वाली सरकार किसानों को मानवता का पाठ ना पढ़ाएं।

किसान नेताओं ने डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला को नसीहत दी कि अगर असलियत में उन्हें किसानों की चिंता है, तो प्रधानमंत्री को पत्र लिखने की बजाए इस्तीफा लिखकर भेजें। अगर उप मुख्यमंत्री ऐसा करते हैं तो किसान उनके इस कदम का स्वागत करेंगे। किसान संयुक्त मोर्चा की ओर से डा. दर्शनपाल, कविता कुरूंगुटी, बलबीर सिंह राजेवाल, अभिमन्यु कोहाड, जगजीत सिहं दल्लेवाल ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का कहना है कि मानवता के आधार पर किसानों को धरना उठा लेना चाहिए। वहीं, उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला ने भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। किसान नेताओं ने कहा कि किसानों का यह आंदोलन केंद्र सरकार के खिलाफ शुरू हुआ था, लेकिन हरियाणा सरकार के नुमाइंदों ने मानवता को शर्मसार करते हुए लगातार किसानों पर लाठीचार्ज, वाटर केनन, आसूं गैस, गिरफ्तारी व बेरहम बयानबाजी की।

किसान नेताओं ने कहा कि कृषि कानूनों पर लोगों को जागृत करने के लिए पिछले पखवाड़े में उत्तर प्रदेश के अलीगढ़, हापुड़, प्रयागराज और अल्मोड़ा, गाजियाबाद, प्रतापगढ़, रामनगर, हल्द्वानी, सीतापुर, विकासनगर व नानकमत्ता में लोगों को पर्चे बांटे गए और कानूनों में काला क्या है, यह बताया गया है। किसान नेताओं ने कहा कि सरकार जब तक किसानों की मांगे पूरी नहीं करती, तब तक उनका आंदोलन इसी प्रकार शांतिपूर्ण तरीके से आगे बढ़ता रहेगा।

Next Story