Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रतिया में किसानों ने बिहार से आए चावल के 5 ट्रकों को पकड़ा

अधिकारियों ने चावल से भरे सभी ट्रक को मार्केट कमेटी के कार्यालय के सामने खड़ा करवा दिया। किसानों (Farmers) ने पुलिस को लिखित शिकायत देकर आरोप लगाया कि सभी ट्रक शेलर संचालकों द्वारा मंगवाये गए है ताकि उनको मिक्स किया जा सके।

रतिया में किसानों ने बिहार से आए चावल के 5 ट्रकों को पकड़ा
X

 रतिया। किसानों द्वारा पकड़े गए बिहार से आए चावल से भरे ट्रक।

हरिभूमि न्यूज. रतिया। रतिया क्षेत्र के किसानों ने आज खेती बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष जरनैल सिंह मलवाला व जिला पार्षद रामचंद्र सहनाल के नेतृत्व में बिहार से रतिया पहुंचे चावल से भरे 5 ट्रकों को पकड़ लिया और इसकी सूचना रतिया (Ratia) के एसडीएम सुरेंद्र बेनीवाल, मार्केट कमेटी व खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को दे दी।

अधिकारियों ने चावल से भरे सभी ट्रक को मार्केट कमेटी के कार्यालय के सामने खड़ा करवा दिया। किसानों (Farmers) ने पुलिस को लिखित शिकायत देकर आरोप लगाया कि सभी ट्रक शेलर संचालकों द्वारा मंगवाये गए है ताकि उनको मिक्स किया जा सके।

मामले की सूचना मिलने पर एसडीम सुरेंद्र बेनीवाल, एआईटीओ संजय खिचड़, मार्केटिंग (Marketing) कमेटी सचिव यशपाल मेहता, खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी सत्यपाल शर्मा, लेखराज कंबोज, सुखविंदर सिंह तथा पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। समाचार लिखे जाने तक अधिकारी पूरे मामले की जांच की जा रहे थी।

जिला पार्षद रामचंद्र सहनाल, खेती बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष जरनल सिंह मलवाला, पूर्व सरपंच बलविंदर सिंह, जगविंदर सिंह काका, कुलदीप चिम्मो, दरिया सिंह, सुखचैन सिंह, सुखविंदर सिंह तथा अन्य किसानों ने बताया कि रतिया क्षेत्र में शेलर मालिकों द्वारा बिहार तथा यूपी से घटिया चावल मंगवा कर अपने शहरों में लगवाया जाता है और सरकारी माल की एवज में घटिया चावल मिलाकर सरकार को भेजकर लाखों रुपए का चूना लगाया जाता है।

इसके बारे में खेती बचाओ संघर्ष समिति के किसानों ने पिछले दिनों उच्च अधिकारियों को शिकायत भी की थी लेकिन अधिकारियों ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। आज सुबह किसानों को सूचना मिली कि कुछ मालिकों द्वारा बाहर से चावल से भरे ट्रक मंगवाए गए है जिस पर जब वह फ तेहाबाद रोड पर पहुंचे तो चावलों से भरे राजस्थान नंबर के 5 ट्रक रोड पर खड़े थे।

जब उनके चालकों से पूछताछ की गई तो चालकों ने बताया कि वह यह चावल बिहार से लेकर आए हैं। इसके बाद किसानों ने इसकी सूचना एसडीम व उच्च अधिकारियों को दे दी। सूचना मिलने पर खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी और पुलिस मौके पर पहुंचे। इसके बाद सभी ट्रक को मार्केट कमेटी के पास मैदान में लाकर खड़ा कर दिया गया। किसानों ने आरोप लगाया कि हरियाणा के किसानों के धान तो सरकार खरीद नहीं रही जबकि बिहार से रतिया में चावल लगाकर करोड़ों का घपला किया जा रहा है।

इस मामले में पूरी जांच करवा कर चावल मंगवाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। किसानों ने कार्रवाई न होने पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी कर दी किसानों का आरोप था कि अधिकारियों की मदद से ही मिलीभगत से यह घपला किया जा रहा है। अधिकारियों ने ट्रक चालकों से भी पूछताछ की और माल मंगाने वाले मालिकों से भी इसके बारे में बिल मंगवा लिए। समाचार लिखे जाने तक अधिकारियों की टीम द्वारा पूरे मामले की जांच की जा रही थी।

इस मामले को लेकर शेलर एसोसिएशन के जिला प्रधान सुरेश जिंदल का कहना है कि चावल पूरे इंडिया में टैक्स फ्री है और रतिया के ट्रेडर द्वारा बाहर से चावल मंगवा कर बिजनेस के तौर पर बेचा जाता है, इसमें किसी प्रकार की कोई गलत बात नहीं है। इस बारे में जब मार्केट कमेटी के सचिव यशपाल मेहता से बात की गई तो उन्होंने बताया कि यह ट्रक मार्केट कमेटी क्षेत्र से बाहर पकड़े गए इसलिए उनके विभाग की कोई कार्रवाई नहीं बनती।

जब खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारी सत्यपाल शर्मा व सुखविंदर सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उच्च अधिकारियों के निर्देशों पर चावल से भरे 5 ट्रकों को मार्केट कमेटी कार्यालय के सामने खड़ा करवा दिया है।

आगे की कार्रवाई एआईटीओ द्वारा की जा रही है। एआईटीओ संजय से बात की गई तो उन्होंने बताया कि की चावल मालिकों से बिल मंगवाए जा रहे हैं और बिल के आधार पर ही जांच करवाई जारी की जा रही है। एसडीएम सुरेंद्र बेनीवाल का कहना है कि उनके पास बिहार से चावल से भरे 5 ट्रक आने की सूचना मिली थी जिसके बारे में सभी विभागों के अधिकारियों की टीम बनवा कर मामले की जांच की जा रही है और जो भी उचित कार्रवाई होगी वह की जाएगी।



Next Story