Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसान आंदोलन : ग्रामीणों-किसानों के बीच तनातनी शुरू, खुलवा रहे जाम

किसान नहीं माने तो गुस्साए ग्रामीणों ने किसानों के बैनर-पोस्टर फाड़ डाले और वहां खड़ी गाडि़यों को भी हटा दिया। ग्रामीणों व किसानों के बीच हुई तनातनी का पता लगते ही पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को समझाकर शांत किया।

किसान आंदोलन : ग्रामीणों-किसानों के बीच तनातनी शुरू, खुलवा रहे जाम
X

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत। तीन कृषि कानूनों के विरोध में दो माह से कुंडली बॉर्डर पर आंदोलनरत किसानों के कारण प्रभावित 20 से ज्यादा गांवों के ग्रामीण बृहस्पतिवार को एकत्रित होकर कुंडली बॉर्डर पहुंचे और किसानों को हटने के लिए कहा।

किसान नहीं माने तो गुस्साए ग्रामीणों ने किसानों के बैनर-पोस्टर फाड़ डाले और वहां खड़ी गाडि़यों को भी हटा दिया। ग्रामीणों व किसानों के बीच हुई तनातनी का पता लगते ही पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को समझाकर शांत किया।

इस हंगामे के बाद जो असंल सिटी की रोमन कोर्ट के पास बैठे थे, वे उस स्थान को खाली कर दूसरी जगह पर जाकर बैठ गए। जिसके बाद सभी ग्रामीण भी वापिस लौट गए। बता दें कि दो माह से चल रहे किसान आंदोलन के चलते आस-पास क्षेत्र के करीब 20 से अधिक गांव प्रभावित हैं।

यहां के निवासियों के जहां काम धंधे ठप हो चुके हैं, वहीं लोग नौकरी पेशा पर भी नहीं जा पा रहे हैं। इन गांवों के लोग कई बार किसानों से मिलकर एक तरफ का रास्ता खोलने की मांग कर चुके हैं, वहीं जिला प्रशासन के सामने भी कई बार गुहार लगा चुके हैं, लेकिन कोई हल नहीं निकला। जिसके बाद किसानों ने बृहस्पतिवार को गांव अटेरना में महापंचायत का आयोजन किया, जिसमें निर्णय लिया कि अंसल सीटी की रोमन कोर्ट के पास हूडा मार्ग को खाली करवाया जाएगा।

इस पर ग्रामीणों का एक प्रतिनिधि दल किसानों के धरने पर पहुंचा और किसानों को वहां से हटने को कहा। इस पर आसपास धरने पर बैठे किसान प्रतिनिधि वहां जमा हो गए और ग्रामीणों के साथ जमकर कहासुनी हुई। इस दौरान कुछ किसान जत्थेदारों ने बीचबचाव किया, लेकिन इसी बीच ग्रामीणों ने उनके बैनर-पोस्टर फाड़ दिए और गाडि़यां भी हटवा दी।

मौके पर पहुंची पुलिस द्वारा बीच-बचाव करने के बाद जो किसान इस मार्ग में धरने पर बैठे थे, वे यहां उठकर दूसरी जगह चले गए। मार्ग खाली करवाने के बाद ग्रामीण वापस लौट गए।



Next Story