Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Rewari : तूफान की तबाही के दो माह बाद भी गांवों में बिजली गुल, बिजली कर्मचारियों को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

तूफान के कारण एक दो नहीं, बल्कि 200 से ज्यादा बिजली के पोल (Electric pole) गिर गए थे। जिस कारण 65 दिन से नैचाना व आसपास के गांवों में ट्यूबवैल पर बिजली नहीं पहुंची तो ग्रामीणों में गुस्सा फूट पड़ा।

Rewari : तूफान की तबाही के दो माह बाद भी गांवों में बिजली गुल, बिजली कर्मचारियों को ग्रामीणों ने बनाया बंधक
X

हरिभूमि न्यूज : रेवाड़ी

दो माह पहले आए तूफान के कारण बिजली सप्लाई (Power supply) तबाह होने पर भी अभी तक गांवों में बिजली सप्लाई ठीक नहीं हो पाई है। बिजली सप्लाई ठीक कराने को लेकर ग्रामीण (Rural) धरना देने के साथ ही ज्ञापन भी सौंप चुके है, लेकिन बिजली ठीक नहीं हो पाई। बुधवार सुबह गांव नैचाना के गुस्साएं ग्रामीणों ने गांव में पहुंचे लाइनमैन (Lineman) सहित कुछ कर्मचारियों को बंधक बना लिया। साथ ही शर्त लगा दी कि जब तक उच्च अधिकारी गांव में नहीं पहुंचेंगे वे कर्मचारियों को जाने नहीं देंगे। किसानों का आरोप है कि बार-बार शिकायत के बाद अधिकारियों ने उनकी सुनवाई नहीं की। मंत्री से लेकर अधिकारियों तक को ज्ञापन दिए गए। बिजली नहीं होने के कारण फसल सूखने के कगार पर पहुंच गई।

ग्रामीणों के अनुसार करीब 65 दिन पहले बरसात के साथ आए तूफान के कारण नैचाना ही नहीं, बल्कि पूरे जिले में 200 से ज्यादा बिजली के पोल गिर गए थे। बिजली के पोल गिरने से बिजली सप्लाई पूरी तरह ठप्प हो गई थी। घरों की बिजली तो बार-बार शिकायत करने के बाद एक माह के अंदर ठीक हो गई, लेकिन ट्यूबवैलों की बिजली ठीक नहीं की गई। जिससे फसलों को पानी नहीं दिया जा सका और अब उनकी फसले 70 प्रतिशत तक सूख चुकी है। बिजली सप्लाई ठीक करने को लेकर बिजली मंत्री रणजीत चौटाला से लेकर स्थानीय अधिकारियों और विधायक को भी शिकायत दी। हर तरफ से सिर्फ आश्वासन के सिवाये कुछ नहीं मिला।

पुलिस भी मौके पर पहुंची

बुधवार को कुछ बिजली कर्मचारी गांव नैचाना में गए थे। साथ में लाbनमैन भी थे। इसी बीच ग्रामीण एकत्रित हो गए। गुस्साएं ग्रामीणों ने बिजली कर्मचारियों को खरी-खरी सुनाई और उन्हें बंधक बना लिया। सूचना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची। ग्रामीणों ने आला अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग की है।

Next Story