Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा : कार में नाइट्रोजन गैस का सिलेंडर खोलकर इंजीनियर ने की आत्महत्या, मरने से पहले पिता को ई- मेल भेजकर लिखी ऐसी बात

भारतभूषण रल्हन ने गीता भवन चौकी पुलिस को बताया कि वह शिवाजी कालोनी के रहने वाला है। उनके 25 वर्षीय बेटे संचित रल्हन ने इंजीनियरिंग की थी। संचित रल्हन शुक्रवार दोपहर को अपनी सेेंट्रो कार लेकर अपने दोस्त से मिलने की बात कहकर घर से गया था।

हरियाणा : कार में नाइट्रोजन गैस का सिलेंडर खोलकर इंजीनियर ने की आत्महत्या, मरने से पहले पिता को ई- मेल भेजकर लिखी ऐसी बात
X

संचित रल्हन का फाइल फाेटो

हरिभूमि न्यूज़ सोनीपत

दोस्त से मिलने गए इंजीयिर का शव उसकी कार में पड़ा मिला। कुंडली थाना पुलिस को शनिवार दोपहर जीटी रोड के पास खड़ी लावारिश कार में उसका शव मिला। कार में नाइट्रोजन गैस का सिलेंडर भी रखा था, जोकि खुला हुआ था। इंजीनियर ने अपने पिता को मेल भेजकर आत्महत्या करने की बात कही है। उसकी मौत नाइट्रोजन गैस से दम घुटने के कारण हो सकती है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव स्वजनों को सौंप दिया है। पोस्टमार्टम में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। विसरा जांच के लिए भेजा गया है।

भारतभूषण रल्हन ने गीता भवन चौकी पुलिस को बताया कि वह शिवाजी कालोनी के रहने वाला है। उनके 25 वर्षीय बेटे संचित रल्हन ने इंजीनियरिंग की थी। अभी उसकी नौकरी नहीं लगी थी। उसके पैर में चोट लग गई थी और उस पर प्लास्टर लगा हुआ था। संचित रल्हन शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे अपने दोस्त से मिलने की बात कहकर घर से गया था। वह अपनी सेेंट्रो कार लेकर गया था। काफी देर तक वापस नहीं आने पर स्वजनों ने उससे संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन कोई पता नहीं लग सका। उसका मोबाइल भी स्विच आफ आ रहा था। परिवार के लोग देर रात तक उसकी तलाश करते रहे, लेकिन कुछ पता नहीं लग सका। उसके बाद रात में गीताभवन चौकी पुलिस को शिकायत दी गई। पुलिस ने गुुशुदगी दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी।

शनिवार दोपहर में करीब दो बजे कुंडली थाना पुलिस को सूचना मिली कि जीटी रोड के पावस सेक्टर-63 में सनसाइन टावर के पास एक सेंट्रो कार लावारिश हालत में खड़ी है। उसमें सुबह से ही एक युवक बैठा हुआ है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पाया कि युवक की मौत हो चुकी थी। उसकी पहचान इंजीनियर संचित कुमार के रूप में हुई। उसकी कार में नाइट्रोजन गैस का सिलेंडर रखा हुआ था। सिलेंडर खुला हुआ था और कार अंदर से लाक थी। पुलिस का मानना है कि उसकी मौत नाइट्रोजन गैस से दम घुटने के कारण हुई है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव स्वजनों को सौंप दिया है।

पिता को किया मेल

इंजीनियर संचित ने मरने से पहले अपने पिता भारतभूषण को एक मेल किया है। उसने मेल में लिखा है कि अपने हालात के कारण वह आत्महत्या कर रहा है। वह काफी समय से मानसिक तनाव में चल रहा था। उसकी मौत के लिए कोई अन्य जिम्मेदार नहीं है। आत्महत्या के लिए मैंने नाइट्रोजन गैस का सिलेंडर कैपिटल गैस एजेंसी से लिया है। खाली सिलेंडर को एजेंसी पर पहुंचा देना।


और पढ़ें
Next Story