Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक महीने में 43 बिजली चोरों पर 18 लाख 60 हजार रूपये का जुर्माना

बिजली चोरी करने वालों के खिलाफ उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम सख्त हो गया है। अगर कोई उपभोक्ता बिजली चोरी करता पाया जाता है तो उसकी खैर नहीं। बिजली चोरी रोकने के लिए चलाए गए अभियान के दौरान निगम की टीमों ने एक महीने में 43 बिजली चोरी के मामले पकड़े हैं।

एक महीने में 43 बिजली चोरों पर 18 लाख 60 हजार रूपये का जुर्माना
X

बिजली चोरों पर जुर्माना (प्रतीकात्मक फोटो)

रोहतक : बिजली चोरी करने वालों के खिलाफ उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम सख्त हो गया है। अगर कोई उपभोक्ता बिजली चोरी करता पाया जाता है तो उसकी खैर नहीं। बिजली चोरी रोकने के लिए चलाए गए अभियान के दौरान निगम की टीमों ने एक महीने में 43 बिजली चोरी के मामले पकड़े हैं।

जबकि दो हजार से अधिक स्थानों पर एक माह में छापा मारा गया है। इन लोगों पर बिजली निगम की तरफ से 18 लाख 60 हजार रुपये जुमार्ना ठोका गया है। जबकि इनमें से कई लाख रुपये की रिकवरी भी हुई है। बिजली निगम के अधिकारियों का कहना है कि प्रदेश भर में बिजली चोरी पकड़ने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

कार्यकारी अभियंता अपने अधीन आने वाले उपमंडलों से बिजली चोरी पकड़ने के लिए मुख्यालय की ओर से आदेश जारी किए हुए हैं। बिजली निगम के उपमंडल अधिकारियों की देखरेख में अभियान की शुरुआत की हुई है। निगम की टीमों ने शहर में कई जगहों पर बिजली चोरी पकड़ने के लिए छापा मारा है।

रात को भी की जा रही कार्रवाई

निगम की तरफ से दिन में ही नहीं रात के समय भी बिजली की चोरी पकड़ने के लिए कनिष्ठ अभियंताओं की देखरेख में टीमों को गठन किया गया है। जो दिन-रात बिजली की चोरी पकड़ने के लिए कार्रवाई कर रही हैं। जिले भर में बिजली निगम की तरफ से हर उपमंडल पर चार-चार टीमों का गठन किया हुआ है। निगम की तरफ से जिले भर में कई टीमों का गठन किया हुआ है।

दो उपभोक्ताओं पर लगाया 1 लाख 25 हजार रुपये का जुमार्ना

बिजली चोरी के खिलाफ अभियान चलाया। इस दौरान टीम ने शहर की बड़ा बाजार, माता दरवाजा, केवल गंज, कायस्तान मौहल्ला, किला रोड आदि में छापा मारा। एसडीओ-3 सुरेंद्र ने बताया कि बिजली निगम ने बृहस्पितवार को दो मीटर लैब जांच के लिए भेजे। जिसकी रिपोर्ट आने दोनों बिजली उपभोक्ताओं पर 1 लाख 25 हजार रुपये का जुमार्ना लगाया। बिजली निगम के अधिकारियों के अनुसार बिजली चोरी की चेकिंग दिन व रात के वक्त रोजाना कराई जाएगी और बिजली चोरी करते पकड़े गए उपभोक्ताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

43 बिजली चोरी केस पकड़, 18 लाख 60 का जुमार्ना

एसडीओ-1 और एसडीओ-3 ने बताया कि बिजली निगम की टीम ने एक महीने में 43 बिजली चोरी केस पकड़े हैं। उन पर करीब साढ़े 18 लाख 60 हजार रुपये जुमार्ना लगाया है। सब डीविजन नंबर एक ने 8 चोरी पकड़ी और 5 लाख 60 हजार का जुमार्ना लगाया। साथ ही सब डीविजन नंबर तीन ने 35 बिजली उपभोक्ताओं को चोरी करते हुए पकड़ा और करीब 35 लाख रुपये का जुमार्ना लगाया। जमार्ना लगाने के सभी उपभोक्ताओं को 48 घंटे के अंदर जुमार्ना भरने के आदेश दिए गए।

48 घंटे के अंदर भरना होता है जुमार्ना

बिजली निगम के नियमानुसार किसी भी उपभोक्ता को बिजली चोरी करते हुए पकड़ा जाता है तो उसे जुमार्ना राशि भरने के लिए 48 घंटे का समय दिया जाता हे। अगर वह उपभोक्ता जुमार्ना राशि की अदायगी नहीं करता है तो उसके खिलाफ पुलिस को मामला दर्ज करने के लिए लिखा जाता है।

बिजली चोरों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। अब किसी भी सूरत में रात हो या दिन बिजली चोरी नहीं होने दी जाएगी। इसके बावजूद अगर उपभोक्ता बिजली चोरी करता है। तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सभी अधिकारियों को बिजली चोरी रोकने के कड़े निर्देश दिए गए हैं।

बिजली चोरी में किसी के साथ कोई रियायत नहीं बरती जाएगी। रात के समय भी बिजली चोरी पकड़ने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई है। बिजली निगम की टीमें निरंतर छापे मार रही हैं। यह अभियान निरंतर जारी रहेगा।


Next Story