Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिजली निगम ने बीस हजार उपभोक्ताओं को दिया झटका, भारी भरकम बिल देखकर होश उड़े

करीब पांच महीने बाद अब जब उपभोक्ताओं को निगम ने बिल थमाए तो बिलों को देखकर उपभोक्ताओं के होश उड़ गए। एक और लोग दिवाली की तैयारी कर रहे हैं तो वहीं अब बिजली निगम ने भारी भरकम बिल भेज कर उपभोक्ताओं का दिवाली का मजा किर किरा कर दिया है।

बिजली बिल में घालमेल
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हरिभूमि न्यूज : सांपला

कस्बे के करीब 20 हजार उपभोक्ता बेहतर ढंग से दिवाली मनाने की तैयारी कर रहे थे, लेकिन बिजली निगम ने लोगों की खुशियों के रंग में भंग कर दिया है। डाटा ऑनलाइन करने को लेकर निगम ने पिछले पांच-छह माह से रोके गए बिजली बिल लोगों को अब थमा दिए हैं। भारी भरकम बिल देखकर उपभोक्ताओं के होश उड़ गए हैं। उपभोक्ताओं ने निगम से किस्तों में जमा कराने की गुहार लगाई है।

गौरवतलब है कि बिजली निगम ने मार्च, अप्रैल में कस्बे के करीब सात हजार उपभोक्ताओं का डाटा ऑनलाइन करना शुरू किया था। काम शुरू होने के साथ ही इन सभी उपभोक्ताओं को बिजली बिल मिलने बंद हो गए। जब उपभोक्ता बिल लेने निगम कार्यालय पहुंचने लगे तो उन्हें आश्वासन देकर भेज दिया जाता, कि कुछ दिन बाद उनके बिल घर भेज दिए जाएंगे। करीब पांच महीने बाद अब जब उपभोक्ताओं को निगम ने बिल थमाए तो बिलों को देखकर उपभोक्ताओं के होश उड़ गए। एक और लोग दिवाली की तैयारी कर रहे हैं तो वहीं अब बिजली निगम ने भारी भरकम बिल भेज कर उपभोक्ताओं का दिवाली का मजा किर किरा कर दिया है।

पांच-छह महीने का बिल एक साथ भेजा

कस्बा निवासी जसबीर सिंह, आशिष कुमार, संजय, श्रवण बंसल, अशोक कुमार, सतीश कुमार आदि का कहना है कि पहले ही कोरोना काल होने की वजह से काम धंधा मंदा होने से सामने आर्थिक संकट है। अब निगम ने एक साथ पांच-छह महीने का बिल एक साथ भेज दिया। उपभोक्ताओं का कहना है कि पहले दो से चार हजार रुपये तक का बिल आ जाता था, उन उपभोक्ताओं को 20 से 25 हजार रुपये तक का बिल है। कई उपभोक्ताओं का तो 40 से 80 हजार रुपये तक के भी बिल हैं। उपभोक्ताओं ने जहां रिडिंग में गड़बड़ी बताई वहीं निगम से किस्तों में बिल भरवाने की गुहार लगाई है।

गलत रिडिंग को ठीक किया जाएगा

उपभोक्ताओं का डाटा ऑनलाइन करने में कई महीने का समय लग गया। जिसकी वजह से अब एक साथ बिल भेजे गए हैं। आगे से उपभोक्ताओं को बिल भरने में सुविधा हो जाएगी। अगर किसी की रिडिंग गलत होंगी तो उन्हें ठीक किया जाएगा। -अनिल कुमार सिक्का, एसडीओ बिजली निगम सांपला

और पढ़ें
Next Story