Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शहर से लेकर गांवों तक चुनावी चहल-पहल शुरू

शायद ही कोई खंभा बचा हो, जिस पर किसी दावेदार का पोस्टर न लटक रहा हो। कोई ग्राम प्रधान तो कोई खंड समिति तो कोई जिला परिषद सदस्य के चुनाव के लिए दावेदारी कर रहा है।

panchayat elections
X

 पंचायत चुनाव (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

शहर के साथ ही गांवों में भी चुनावी चहल-पहल शुरू हो गई है। गलियों में होर्डिंग-बैनर दिखने लगे हैं। चुनावी चौपालें लगने लगी हैं। इतना ही नहीं, गांवों में दावतों के भी दौर भी शुरू हो गए हैं। शायद ही कोई खंभा बचा हो, जिस पर किसी दावेदार का पोस्टर न लटक रहा हो। कोई ग्राम प्रधान तो कोई खंड समिति तो कोई जिला परिषद सदस्य के चुनाव के लिए दावेदारी कर रहा है। वहीं नगर परिषद में भी वार्डों के महिला आरक्षण के लिए निकाय विभाग ने कवायद तेज कर दी है। ऐसे में पुरुष पार्षदों के दिलों की धड़कनें तेज होना स्वाभाविक है।

बता दें कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों की तारीखों की अभी घोषणा नहीं हुई है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में चुनावी रंग नजर आने लगा है। ग्राम पंचायतों का कार्यकाल खत्म होने वाला है। अगले चुनाव के लिए दावेदार भी ताल ठोंकने लगे हैं। उन्होंने अभी से होर्डिंग, बैनर लगवाना शुरू कर दिया है। चौपालों पर चर्चा के दौरान अपनी चुनाव लड़ने की मंशा भी जाहिर कर रहे हैं। साथ ही बता रहे हैं कि यदि वह प्रधान बने तो किस तरह से गांव की तस्वीर बदल देंगे। ग्रामीणों को अहसास दिला रहे हैं कि वे गांवों में परिवर्तन लाने के लिए चुनावी मैदान में उतर रहे हैं। ऐसे तमाम दावों के साथ ही दावेदार अभी से चुनाव के लिए पूरी ताकत झोंक रहे हैं।

वहीं नगर परिषद के चुनावों की आहट भी सुनाई देने लगी है। महिला वार्डों के रोटेशन की प्रक्रिया फरवरी माह के अंत तक पूरी होने की संभावना है। यह आरक्षण ड्रा ऑफ लाट के माध्यम से पहली बार शहरी स्थानीय निकाय निदेशालय में होगा। तदर्थ कमेटी की बैठक का दिन व समय निर्धारित कर दिया है। तदर्थ कमेटी में निदेशालय के निदेशक, जिला उपायुक्त या उनके प्रतिनिधि, व परिषद के प्रशासक या प्रधान, कार्यकारी अधिकारी या सचिव और पांच गैर सरकारी सदस्य शामिल हैं। निदेशालय ने निकायों को तदर्थ कमेटी के पांचों गैर सरकारी सदस्यों के नामों की सूची बैठक से पहले भेजने के निर्देश दिए हैं। बहादुरगढ़ नगर परिषद का ड्रा ऑफ लाट 29 जनवरी को होगा। इसके साथ ही पुरुष पार्षदों के दिल की धड़कनें बढ़ गई हैं।

Next Story