Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शिक्षा मंत्री कंवरपाल बोले- बेटियों को आगे बढ़ने के लिए मिलें ज्यादा अवसर

शिक्षा मंत्री राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर यमुनानगर में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू करने के बाद समाज में लोगों की सोच में बदलाव आ रहा है, अब बेटियों को आगे बढऩे के मौके दिये जा रहे हैं व लड़कियां भी मिल रहे अवसरों पर हर क्षेत्र में आगे बढ़ कर अपनी सफलता का लोहा मनवा रही हैं।

शिक्षा मंत्री कंवरपाल बोले- बेटियों को आगे बढ़ने के लिए मिलें ज्यादा अवसर
X
शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर (फाइल फोटो)

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि नारी के बिना संसार अधूरा है, सभी को नारी का सम्मान करना चाहिए तथा बेटियों को आगे बढ़ने व आत्मनिर्भर बनने के ज्यादा से ज्यादा अवसर दिए जाने चाहिए।

कंवरपाल ने राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर यमुनानगर में सभी को बधाई देते हुए कहा कि देश में बेटियों की कम होती संख्या को देखकर बेटियों का हौंसला बढ़ाने व समाज को कन्याओं के प्रति जागरूक करने के लिए प्रति वर्ष 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाने लगा है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू करने के बाद समाज में लोगों की सोच में बदलाव आ रहा है, अब बेटियों को आगे बढऩे के मौके दिये जा रहे हैं व लड़कियां भी मिल रहे अवसरों पर हर क्षेत्र में आगे बढ़ कर अपनी सफलता का लोहा मनवा रही हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हरियाणा में बेटियों की सुरक्षा व जनकल्याण के लिए बहुत सी योजनाएं चलाई हैं जिनसे जुड़कर लड़कियों व महिलाओं को लाभ हो रहा हैं। उन्होंने कहा कि लड़कियों व महिलाओं को कानूनी सहायता भी उपलब्ध करवाई जा रही है व लोगों के जागरूक होने से भ्रण हत्या के मामलों में भी कमी आई है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय बालिका दिवस को नारी शक्ति के रूप में भी याद किया जाता है, इसका प्रथम उद्देश्य लोगों में लड़कियों के प्रति व्याप्त भ्रांतियां दूर करना, जागरूकता फैलाना और कन्या भूण हत्या के पाप और प्रतिकूल प्रभावों के बारे में जानकारी फैलाना है।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मार्गदर्शन में प्रदेश में निरन्तर लिंग अनुपात में सुधार हो रहा है और प्रदेश की बेटियां हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं प्रदेश का नाम रोशन कर रही हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के जागरूक होने से ही बदलाव लाया जा सकता है। जहाँ परिवारों में बेटी की अहमियत को समझा जा रहा है, वहीं सरकार की ओर से किये जा रहे प्रयासों से हालात बदल भी रहें हैं। उन्होंने कहा कि सभी अभिभावक बालिकाओं की शिक्षा पर ध्यान देते हुए उन्हें विद्यालय जरूर भेजें ताकि लडकियां पढ लिख कर अपनी प्रतिभा व हुनर के बल पर आत्मनिर्भर बन सकें।

Next Story