Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मानसून सत्र के दौरान चाक-चौबंद रहेगी हरियाणा विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था, पिछली बार वाले ये रिस्क नहीं लेना चाहती सरकार

इस कमेटी में पंजाब, हरियाणा और यूटी चंडीगढ़ के एसपी स्तर के पुलिस अधिकारी, दोनों विधानसभाओं के सुरक्षा प्रमुख और चंडीगढ़ प्रशासन की तरफ से नोडल अधिकारी शामिल होंगे। साथ ही विधान भवन के भीतर हरियाणा और पंजाब परिसरों के साझा प्रवेश द्वारों पर अस्थायी बेरिकेडिंग भी की जाएगी। गत बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री की प्रेस ब्रिफिंग के वक्त विधान सभा परिसर में पंजाब के कुछ विधायकों ने अशोभनीय व्यवहार किया था।

मानसून सत्र के दौरान चाक-चौबंद रहेगी हरियाणा विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था, पिछली बार वाले ये रिस्क नहीं लेना चाहती सरकार
X

विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बैठक लेते अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता।

चंडीगढ़। हरियाणा विधान सभा के 20 अगस्त से शुरू हो रहे मानसून-सत्र के दौरान सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद करने के लिए विस अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने सोमवार को उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। बैठक में सत्र के दौरान सुरक्षा व्यवस्था की जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए 6 सदस्यीय कमेटी गठित करने का निर्णय हुआ। इस कमेटी में पंजाब, हरियाणा और यूटी चंडीगढ़ के एसपी स्तर के पुलिस अधिकारी, दोनों विधानसभाओं के सुरक्षा प्रमुख और चंडीगढ़ प्रशासन की तरफ से नोडल अधिकारी शामिल होंगे। साथ ही विधान भवन के भीतर हरियाणा और पंजाब परिसरों के साझा प्रवेश द्वारों पर अस्थायी बेरिकेडिंग भी की जाएगी। सत्र के दौरान पार्किंग व्यवस्था को लेकर भी विस्तृत योजना बनी है।

बैठक में उपस्थित हरियाणा, पंजाब और यूटी चंडीगढ़ के शीर्ष अधिकारियों को संबोधित करते हुए विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि गत बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री की प्रेस ब्रिफिंग के वक्त विधान सभा परिसर में पंजाब के कुछ विधायकों ने अशोभनीय व्यवहार किया था। उन्होंने अफसरों को आगाह किया कि भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। गुप्ता ने पुलिस अधिकारियों से सुरक्षा प्रबंधों का विस्तार से ब्योरा मांगा। चंडीगढ़ प्रशासन के अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि विधान सभा सत्र के दौरान चंडीगढ़ प्रशासन की ओर से ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया जाता है। आगामी मानसून सत्र में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि ड्यूटी मजिस्ट्रेट प्रतिदिन विधान सभा के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। सुरक्षा व्यवस्था के लिए विधान सभा परिसर में हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ पुलिस के साथ-साथ सीआईएसएफ के जवान भी तैनात रहते हैं। इन सभी के बीच तालमेल स्थापित करने के लिए व्हाट्सअप ग्रुप भी बनेगा।

सत्र के लिए अधिकृत वाहन ही विधान सभा परिसर में प्रवेश कर सकेंगे। यह पूरा जिम्मा सीआईएसएफ विंग का रहेगा। ड्यूटी पर तैनात पुलिस जवानों और अन्य कर्मचारियों की सुविधा के लिए पार्किंग क्षेत्र में अस्थायी कैंटीन और शौचालयों की व्यवस्था भी रहेगी। बैठक में हरियाणा सरकार के मुख्य सचिव विजय वर्धन, गृह विभाग एसीएस राजीव अरोड़ा, यूटी चंडीगढ़ के गृह सचिव अरुण गुप्ता, हरियाणा के नवनियुक्त पुलिस महानिदेशक पीके अग्रवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक सीआईडी आलोक मित्तल, आईजी सौरभ सिंह, हरियाणा विधान सभा सचिव आरके नांदल, पंजाब पुलिस के एडीजीपी एसएस श्रीवास्तव, पंजाब विधान सभा सचिव सुरिंद्र पाल, यूटी चंडीगढ़ के एडीसी एसएस माही, एसपी ट्रैफिक मनीषा चौधरी, सीआईएसएफ के सीनियर कमांडेंट एसपी सिंह समेत अनेक आला अधिकारी मौजूद रहे।

विधान भवन में नहीं होगी प्रेस ब्रीफिंग

सुरक्षा प्रबंधों को लेकर आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में तय हुआ कि विधान भवन में मानसून-सत्र के दौरान प्रेस ब्रीफिंग नहीं होगी। मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष या अन्य कोई भी मंत्री या सदस्य हरियाणा निवास स्थित प्रेस गैलरी में जाकर मीडिया से बात करेंगे। हरियाणा निवास स्थित प्रेस गैलरी में सदन की पूरी सामग्री उपलब्ध रहेगी। इलेक्ट्रोनिक मीडिया को सीधा प्रसारण उपलब्ध कराने के लिए गेट के पास से लिंक दिए जाएंगे।

Next Story