Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोख के कातिलों का भंडाफोड़ : अवैध रूप से गर्भपात करती पकड़ी डॉक्टर, उपकरण और एमटीपी किट बरामद

क्लीनिक से एमटीपी किट व गर्भपात में इस्तेमाल किए जाने वाले काफी उपकरण टीम ने जब्त किए। आरोपित की कार से भी एमटीपी किट बरामद हुई हैं।

कोख के कातिलों का भंडाफोड़ : अवैध रूप से गर्भपात करती पकड़ी डॉक्टर, उपकरण और एमटीपी किट बरामद
X

 रेड के दौरान पकड़े गए गर्भपात करने के उपकरण

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

कोख के कातिलों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई लगातार जारी हैै। विभाग ने अब बादली में अवैध रूप से गर्भपात किए जाने के मामले का भंडाफोड़ किया है। मामले में रंगे हाथ एक आरोपित डॉक्टर पकड़ी गई है। मौके से आरोपित का मोबाइल, गाड़ी, एमटीपी किट और गर्भपात किए इस्तेमाल किए जाने वाले काफी उपकरण बरामद हुए हैं। पुलिस ने अदालत में पेश करने के बाद आरोपित को जेल भेज दिया है।

दरअसल, विभाग को सूचना मिली कि बादली स्थित एक अनधिकृत क्लीनिक में गैर कानूनी ढंग से गर्भपात कराया जाता है। इस सूचना पर विभाग हरकत में आया। सिविल सर्जन एवं पीएनडीटी नोडल आफिसर डॉ. ममता की अगुवाई में टीम गठित की गई। टीम में एमओ डॉ. सुनीता, एमओ डॉ. हेमंत सचदेवा, क्लर्क अनिल व अजय आदि शामिल थे। टीम ने आरोपित डॉक्टर को पकड़ने के लिए योजना बनाई और एक फर्जी ग्राहक (डिकोय) तैयार की। फर्जी ग्राहक का आरोपित डॉक्टर से संपर्क कराया गया। मंगलवार को फर्जी ग्राहक बादली स्थित नीलकमल मेडिकल सेंटर पर पहुंची। यहां डॉक्टर ने फर्जी ग्राहक को किट इस्तेमाल करने के लिए दी। उधर, विभाग की टीम भी तैयार थी। इशारा मिलते ही टीम ने आरोपित को रंगे हाथ पकड़ लिया। आरोपित की पहचान डॉ. नीलम के रूप में हुई है।

जांच करने पर उसकी दराज से वे 1500 रुपये भी मिल गए, जो टीम ने चिह्नित कर फर्जी ग्राहक को दिए थे। क्लीनिक से एमटीपी किट व गर्भपात में इस्तेमाल किए जाने वाले काफी उपकरण टीम ने जब्त किए। इसके अलावा क्लीनिक के नजदीक खड़ी आरोपित की आल्टो कार से भी टीम को कुुछ एमटीपी किट बरामद हुई हैं। इन तमाम उपकरणों के अलावा आरोपित का मोबाइल व गाड़ी भी टीम ने पुलिस को सौंप दी है। मामले में और कौन-कौन शामिल हैं, कब से और कहां-कहां यह काम चल रहा था आदि सवाल बने हुए हैं। जांच पूरी होने के बाद ही ये तमाम खुलासे हो पाएंगे। फिलहाल ये जरूर सामने आया है कि आरोपित डॉ. नीलम दलाल के खिलाफ सदर थाना बहादुरगढ़ में 2016 में भी इसी तरह का केस दर्ज हो चुका है।

Next Story