Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बहादुरगढ़ : वक्फ बोर्ड की जमीन को लेकर विवाद गरमाया, ग्रामीणों ने दी चेतावनी

कानोंदा केग्रामीणों ने निवर्तमान सरपंच सहित गांव के लोगों पर दर्ज कराए गए मुकदमे को रद्द करने व विवादित जमीन पर शहीदी पार्क बनवाने की मांग उठाई।

बहादुरगढ़ : वक्फ बोर्ड की जमीन को लेकर विवाद गरमाया, ग्रामीणों ने दी चेतावनी
X

बहादुरगढ़ : शनिवार को नाहरा-नाहरी रोड पर जाम लगाकर खड़े कानोंदा के ग्रामीण।

हरिभूमि न्यूज : बहादुरगढ़

गांव कानोंदा में वक्फ बोर्ड की जमीन को लेकर विवाद गरमा गया है। शनिवार को गुस्साए ग्रामीणों ने सड़क पर जाम लगा दिया। ग्रामीणों ने निवर्तमान सरपंच सहित गांव के लोगों पर दर्ज कराए गए मुकदमे को रद्द करने व विवादित जमीन पर शहीदी पार्क बनवाने की मांग उठाई। कुछ देर बाद ग्रामीणों ने जाम तो खोल दिया, लेकिन ये चेतावनी भी दी कि यदि शीघ्र ही उनकी मांग पूरी नहीं होती है तो फिर से सड़क पर उतरने को मजबूर होंगे।

दरअसल, गांव में हरियाणा ग्रामीण बैंक के पास वक्फ बोर्ड की जमीन है। वीरवार को बोर्ड के अधिकारियों ने गांव के निवर्तमान सरपंच सहित कई लोगों पर जमीन प कब्जा करने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया था। इसी को लेकर ग्रामीणों में रोष पनप गया। सुबह करीब दस बजे काफी ग्रामीण इकट्ठे हुए और रोड जाम कर दिया। करीब दस मिनट के बाद ग्रामीणों ने खुद ही जाम खोल दिया। इसके बाद ग्रामीण सदर थाने पहुंचे और पुलिस अधिकारियों के सामने अपनी मांग रखी। ग्रामीणों ने कहा कि गांव में वक्फ बोर्ड की जो जमीन है, उसकी मलकीयत गांव के नाम है, लेकिन डाबोदा के एक व्यक्ति ने गलत तरीके से जमीन अपने नाम करा ली है।

वीरवार को उस जमीन पर कोई कब्जा नहीं किया जा रहा था। बस जेसीबी से साफ सफाई की जा रही थी। तभी बोर्ड के अधिकारी व कुछ लोगों ने आकर धमकी देनी शुरू कर दी। एक ग्रामीण को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया और लोगों पर केस दर्ज करा दिया। हम इसका विरोध करते हैं। गांव की जमीन में शहीदी पार्क बनाया जाए और दर्ज किया गया मुकदमा रद्द किया जाए। मामले में गड़बड़ी कर रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उधर, सदर थाना प्रभारी राजेश कुमार ने कहा कि ग्रामीण थाने में आए थे। उनका कहना है कि जमीन गांव की है। ग्रामीणों का पक्ष भी सुन लिया गया है। मामले में जांच चल रही है।

Next Story