Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करनाल में देसी घी की फैक्ट्री पर छापा, 9000 लीटर घी सील

एफडीए कमिश्नर ललित सिवाच को शिकायत मिली थी कि मिष्ठी फार्मर नामक फैक्ट्री जो देसी घी बनाती है, उसकी क्वालिटी घटिया है।

करनाल में देसी घी की फैक्ट्री पर छापा, 9000 लीटर घी सील
X

हरिभूमि न्यूज़ : करनाल

फूड एंड ड्रज्स एडमिस्ट्रेशन की स्टेट टीम द्वारा नगला रोड स्थित देसी घी की फैक्ट्री मिष्ठी फार्मर प्रोडूसर कंपनी लिमिटेड पर छापामार कार्यवाही कर 11 सैंपल भरे। यहीं नहीं स्टेट टीम ने 9 हजार लीटर देसी घी को भी सील कर दिया। संयुक्त टीम के साथ पुलिस कर्मचारी थे। एफएसओ श्याम लाल ने बताया कि एफडीए कमिश्नर ललित सिवाच को शिकायत मिली थी।

शिकायत में आरोप लगाए गए थे कि मिष्ठी फार्मर नामक फैक्ट्री जो देसी घी बनाती है, घी की घटिया क्वालिटी है। आरोप है कि फैक्ट्री में घटिया क्वालिटी का देसी घी लेकर उसे पैक कर बेचा जाता है। एफडीए कमिश्नर ने शिकायत मिलते ही स्टेट टीम को छापेमारी के आदेश जारी किए। एफएसओ श्याम लाल ने बताया कि एफडीए कमश्रिर ललित सिवाच के आदेशों पर 2 फरवरी सुबह फैक्ट्री में छापेमारी की गई।

स्टेट टीम ने फैक्ट्री से 11 सैंपल लिए है, इनमें 9 सैंपल देसी घी के, 1 सैंपल बटर, एक सैंपल क्रीम का भरा गया। इसके साथ ही 9 हजार लीटर देसी घी को सील कर दिया। उन्होंने कहा कि भरे गए सैंपलों की जांच किस लैब में होगी, इसका निर्णय एफडीए कमिश्नर द्वारा किया जाएगा। क्योंकि यह सीक्रेट रहता है। संयुक्त टीम में पानीपत एफएसओ श्याम लाल, पंचकूला डीईओ सुभाष चंद, हिसार एफएसओ डॉ.अरवद्रिं जीत व डॉ. जोगद्रिं सिंह शामिल रहे। छापेमार कार्यवाही रात तक चलती रही। एफएसओ श्याम लाल ने बताया कि इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी जा सकती। छापेमारी के बारे में कंपनी के अधिकारियों से संपर्क करने का कई बार प्रयास किया गया, लेकिन कंपनी के कर्मचारियों ने कंपनी का नंबर देने से इंकार कर दिया।


Next Story