Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डेंगू का प्रकोप : बकरी के दूध की बढ़ी डिमांड, तीन सौ रुपये तक बिक रहा 1KG

बढ़ते डेंगू के दंंश के चलते लोग एक तरफ जहां अपने स्वास्थ्य को लेकर परेशान है, वहीं दूसरी ओर उनकी जेब पर भी भारी पड़ रहा है। अलसुबह ही लोग बकरी पालकों के घर पहुंचने लगते है और अपने सामने ही दूध निकलवा कर ले जा रहे है।

डेंगू का प्रकोप : बकरी के दूध की बढ़ी डिमांड, तीन सौ रुपये तक बिक रहा 1KG
X

झज्जर : बकरी का दूध बोतल में डालते हुए महिला।

हरियाणा के झज्जर जिले में डेंगू का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। बच्चे, युवा और बुजुर्ग सभी इसकी चपेट में आ रहे है। ऐसे में बकरी के दूध की डिमांड बढ़ गई है। क्यूंकि बकरी का दूध सैल और प्लेटलेट्स बढ़ाने में सहायक साबित हो रहा हैै। स्थिति यह है कि पचास से साठ रुपए प्रति किलोग्राम तक बिकने वाला दूध अब एक सौ रुपए से तीन सौ रुपए से भी मंहगा बिक रहा है। शहर के सीताराम गेट क्षेत्र में एक बकरी पालक ने तो बकायदा बाहर बोर्ड लगाकर भी प्रतिकिलोग्राम दूध की कीमत एक सौ रुपए लिखी हुई है। बढ़ते डेंगू के दंंश के चलते लोग एक तरफ जहां अपने स्वास्थ्य को लेकर परेशान है, वहीं दूसरी ओर उनकी जेब पर भी भारी पड़ रहा है। अलसुबह ही लोग बकरी पालकों के घर पहुंचने लगते है और अपने सामने ही दूध निकलवा कर ले जा रहे है।

जानकारों का कहना है कि बकरी हमेशा पेड़ पर लगे हुए पत्ते या ताजी घास ही खाती है। जमीन पर गिरी हुई वस्तु को भी बकरी नहीं खाती है। खेतों, जंगलों में अलग-अलग तरह के पेड़-पौधों के पत्तों को खाने के कारण बकरी का दूध अधिक पौष्टिक होता है और बकरी का दूध भैंस और गाय के दूध की तुलना में पतला भी होता है। जिसके चलते यह आसानी से पच भी जाता है। यहीं कारण है कि बकरी के दूध के सेवन से बीमार शरीर जल्द रिकवर करता है।

कीवी और नारियल पानी के भी बढ़े दाम : बकरी के दूध के साथ-साथ कीवी और नारियल पानी के दाम भी बढ़े हुए है। दुकानदार शंभु ने बताया कीवी के अलग-अलग वैरायटी है। एक कीवी की कीमत पंद्रह रुपए से लेकर पचास रुपए तक है। लेकिन फिर भी कीवी की खूब डिमांड है और लोग खूब खरीददारी कर रहे है। वहीं नारियल भी साठ से अस्सी रुपए की कीमत में बिक रहा है।


बकरी के दूध के फायदे: जानकारों के अनुसार बकरी का दूध इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत करता है, मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है, हड्डियों को मजबूत करता है। हदय के लिए भी काफी लाभदायक है। वहीं बकरी का दूध एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर है।


वहीं साइंटिफिक रिसर्च में ऐसा कुछ नहीं है कि बकरी का दूध डेंगू के लिए सौ फीसद ठीक है। हां इतना जरूर है कि बकरी का दूध हल्का होता है और इम्यूनिटी पॉवर को बढ़ाता है। -डॉक्टर मंजू कुमारी, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी।

Next Story