Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसानों को रोकने की तैयारी : टीकरी बॉर्डर पर सड़क में गाड़ीं कीलें, झाड़ोदा बॉर्डर पर बना दी सीमेंट की दीवार

एक तरफ जहां बहादुरगढ़ के इलाके के तीनों व टीकरी बॉर्डर स्टेशन पर मेट्रो के प्रवेश-निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं। वहीं सड़क मार्गों को भी लगातार अवरुद्ध किया जा रहा है।

किसानों को रोकने की तैयारी : टीकरी बॉर्डर पर सड़क में गाड़ीं कीलें, झाड़ोदा बॉर्डर पर बना दी सीमेंट की दीवार
X

टीकरी बॉर्डर पर जमीन में लगाए गए सूएं नुमा सरिए और झाड़ौदा बॉर्डर पर पुलिस द्वारा बनाई गई सीसी दीवार।

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

किसानों ने फिलहाल दिल्ली कूच का कोई आह्वान नहीं किया है और गत 67 दिनों से दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे हैं। लेकिन इस सबके बीच दिल्ली पुलिस बॉर्डरों पर हैरत करने वाली तैयारियों में जुटी है। बीती रात टीकरी बॉर्डर पर लोहे के सूएं जमीन में लगाए गए जबकि झाड़ोदा बॉर्डर पर सीमेंट कंक्रीट की दीवार ही बना दी गई। अन्य छोटे रास्ते भी अवरुद्ध किए जा रहे हैं।किसान आंदोलन के मद्देनजर अब दिल्ली पुलिस और प्रशासन आमजन पर भी सख्ती बरतने लगी है। एक तरफ जहां बहादुरगढ़ के इलाके के तीनों व टीकरी बॉर्डर स्टेशन पर मेट्रो के प्रवेश-निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं। वहीं सड़क मार्गों को भी लगातार अवरुद्ध किया जा रहा है।

आंदोलनकारी किसान केवल टीकरी बॉर्डर पर धरना दे रहे हैं। जबकि पुलिस ने झाड़ोदा बॉर्डर भी बंद कर दिया और अब वहां बेरिकेड के साथ सीमेंट कंक्रीट की चौड़ी-ऊंची दीवार खड़ी कर दी है। इसके अलावा निजामपुर रोड समेत अन्य छोटे मार्गों को भी दिल्ली पुलिस द्वारा ही अवरुद्ध किया जा रहा है। टीकरी बॉर्डर पर बीती रात सड़क को खोदकर उसमें लोहे के नुकीले सूएं नुमा सरिए गार्डर पर वेल्ड कर रखे गए और फिर उस पर सीमेंट कंक्रीट डाल दी गई। सुरक्षाबलों द्वारा देश की सीमाओं पर भी जो प्रबंध नहीं किए जाते, वैसे इंतजाम इन दिनों दिल्ली-बहादुरगढ़ सीमा पर पुलिस द्वारा किए जा रहे हैं। जिस कारण आमजन को सर्वाधिक परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है।

Next Story