Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मौत कृष्ण लाल की हुई, मृत्यु प्रमाण पत्र किशन लाल का बना दिया

मृत्यु प्रमाण पत्र में गलत नाम दर्ज करने से मृतक की विधवा पेंशन से लेकर अन्य सुविधाओं से वंचित हो गई है। वह अधिकारियों की इस गलती को ठीक करवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है। लेकिन सीएम विंडो पर शिकायत के बाद भी उसकी समस्या का समाधान नहीं हुआ।

मौत कृष्ण लाल की हुई, मृत्यु प्रमाण पत्र किशन लाल का बना दिया
X

मृत्यु प्रमाण पत्र व अन्य दस्तावेज दिखाती लक्ष्मी देवी।

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

पीजीआईएमएस में एक मरीज की मौत के बाद उसके मृत्यु प्रमाण पत्र में गलत नाम दर्ज किए जाने के बाद उसकी विधवा पेंशन से लेकर अन्य सुविधाओं से वंचित हो गई है। वह अधिकारियों की इस गलती को ठीक करवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है। लेकिन सीएम विंडो पर शिकायत के बाद भी उसकी समस्या का समाधान नहीं हुआ।

दरअसल, कृष्णलाल की 24 जुलाई 2021 को अचानक तबीयत खराब हो गई। उसे उपचार के लिए शहर के नागरिक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से चिकित्सकों ने उसकी हालत को देखते हुए प्राथमिक उपचार देने के बाद पीजीआईएमएस रोहतक रेफर कर दिया। वहां करीब सप्ताहभर भर्ती रहने के बाद भी उसकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ और 1 अगस्त को उसकी मृत्यु हो गई। उसकी विधवा लक्ष्मी देवी अपने पति का मृत्यु प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए दो महीने से भी ज्यादा भटकती रही। लेकिन इसके बाद उसे जो मृत्यु प्रमाण पत्र मिला, वह उसके गले की फांस बन गया। अधिकारियों द्वारा की गई लापरवाही विधवा के लिए मुसीबत बन गई।

मृत्यु प्रमाण पत्र में कृष्णलाल का नाम किशनलाल दर्ज कर दिया गया। उसके पिता का नाम भी घनश्याम दास की बजाय घन सिंह दर्ज कर दिया। हालांकि बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पताल में उसका नाम कृष्ण लाल ही दर्ज था। अब लक्ष्मी देवी अपने पति के मृत्यु प्रमाण पत्र में हुई इस त्रुटि में सुधार के लिए ठोकरें खाने को मजबूर है। मगर उसकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही। सीएम विंडो पर गुहार लगाने के बाद भी उसकी समस्या का कोई समाधान नहीं हो पा रहा है। विधवा के पास आमदनी का कोई समाधान नहीं है। अगर उसके पति के मृत्यु प्रमाण पत्र में नाम सही होता, तो उसे विधवा पेंशन बनवाने के लिए धक्के नहीं खाने पड़ते।

Next Story