Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आत्म रक्षक बनेंगी बेटियां : 11वीं और 12वीं की छात्राओं को स्कूलों में दी जाएगी मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग

सुबह सवेरे प्रार्थना के बाद खेल के मैदान में ही मार्शल आर्ट प्रशिक्षक इन बेटियों को खुद की रक्षा करने के तौर व तरीके बताएंगे। साथ ही असामाजिक तत्व से निपटने के बारे में जानकारी दी जाएगी।

आत्म रक्षक बनेंगी बेटियां : 11वीं और 12वीं की छात्राओं को स्कूलों में दी जाएगी मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग
X

गांव सूई के स्कूल में छात्राओं को मार्शल आर्ट की जानकारी देते हुए।

हरिभूमि न्यूज : भिवानी

पहली बार स्कूलों में पढने वाली बेटियों को मार्शल आर्ट में पारंगत बनाया जाएगा। सर्व शिक्षा अभियान के तहत प्रत्येक 11 वीं व 12 वीं कक्षा की छात्राओं को रोजाना दो-दो घंटे मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग दी जाएगी। 75 दिनों तक चलने वाले प्रशिक्षक के बाद बेटियां हर तरह की चुनौतियों से लड़ने में सक्षम होगी। शिक्षा विभाग ने सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में उक्त योजना को आज से ही लागू कर दिया है। शिक्षा विभाग ने सर्व शिक्षा अभियान के तहत 11 वीं व 12 वीं में पढने वाली बेटियों को मार्शल आर्ट ( martial arts ) की ट्रेनिंग दी जाएगी। जिसके लिए जिले के सभी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय ( जिनमें छात्राएं हैं ) उन स्कूलों में दो माह से ज्यादा समय तक छात्राओं को खुद की रक्षा करने के गुर सिखाए जाएंगे।

सुबह सवेरे प्रार्थना के बाद खेल के मैदान में ही मार्शल आर्ट प्रशिक्षक इन बेटियों को खुद की रक्षा करने के तौर व तरीके बताएंगे। साथ ही असामाजिक तत्व से निपटने के बारे में जानकारी दी जाएगी। ताकि एकदम समस्या आने के बाद किस तरह से अपने आप को बचाया जा सके। फिलहाल शिक्षा विभाग ने 11 वीं व 12 वीं की छात्राओं का चयन किया है। अगर शिक्षा विभाग व सर्व शिक्षा अभियान के तहत इस योजना में उनको सफलता मिली तो बाद में नौंवी व दसवीं की छात्राओं को भी इसी तरह का प्रशिक्षण दिया जा सकता है। इस बारे में शिक्षा विभाग ने सभी स्कूल संचालकों को इस बारे में जानकारी भेज दी है।

सोमवार से शुरू हुआ प्रशिक्षण

शिक्षा विभाग के निर्देशों के अनुसार सोमवार को सीनियर सेंकेंडरी स्कूलों में सुबह सवेरे 11 वीं व 12 वीं की छात्राओं को दो घंटे का प्रशिक्षण दिया गया। उनको आत्मरक्षा के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। साथ ही उनको यह भी बताया कि गया खुद की रक्षा के साथ.साथ सामने वाले को किस तरह से जवाब दिया जाए। इस बारे में भी उनको बताया गया। हर स्कूल में सुबह दो घंटे तक छात्राओं को इस तरह की ट्रेनिंग दी गई।

क्या कहते हैं अधिकारी

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सूई के प्राचार्य अनिल कुमार ने बताया कि विभाग के निर्देशों के अनुसार सुबह उन्होंने छात्राओं को मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण दिलाया गया। सर्व शिक्षा अभियान की तरह से पहुंचे ट्रेनर के माध्यम से आत्मरक्षा के बारे में जानकारी दिलाई गई। इस दौरान वे भी वहां पर मौजूद रहे। इस तरह के प्रशिक्षण से छात्राओं में आत्म विश्वास बनेगा और वे खुद की सुरक्षा करने में सक्षम भी होगी।

Next Story