Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डीएड और डीएलएड के छात्र-अध्यापकों को फरवरी-2021 की परीक्षा के लिए मिला विशेष अवसर

जानकारी देते हुए बोर्ड अध्यक्ष डॉ. जगबीर सिंह एवं सचिव राजीव प्रसाद ने बताया कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के दृष्टिगत छात्र-अध्यापकों के हित को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिया गया है।

नकल रोकने के लिए हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड करवाएगा नकल उन्मूलन निबंध लेखन प्रतियोगिता
X
हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड

हरिभूमि न्यूज : भिवानी

हरियाणा विद्यालय विद्यालय शिक्षा बोर्ड (Board of School Education Haryana) द्वारा डीएलएड परीक्षा फरवरी-2021 के लिए प्रवेश वर्ष 2015-17, 2016-18, 2017-19 एवं 2018-20 के छात्र-अध्यापकों को परीक्षा देने के लिए एक विशेष अवसर देने का निर्णय लिया गया है।

यह जानकारी देते हुए बोर्ड अध्यक्ष डॉ. जगबीर सिंह एवं सचिव राजीव प्रसाद ने बताया कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के दृष्टिगत छात्र-अध्यापकों के हित को ध्यान में रखते हुए शिक्षा बोर्ड द्वारा डीएड प्रवेश वर्ष 2015-17 के छात्र-अध्यापक जो प्रथम, द्वितीय व तृतीय सेमेस्टर में उतीर्ण है तथा चतुर्थ सेमेस्टर में एक विषय में अनुतीर्ण होने के कारण उनका परिणाम नॉट-फिट-फॉर डिप्लोमा घोषित हुआ है, ऐसे छात्र-अध्यापकों को भी चतुर्थ सेमेस्टर में एक विषय में विशेष अवसर प्रदान किया गया है।

उन्होंने आगे बताया कि जिन छात्र-अध्यापकों का डीएलएड प्रवेश वर्ष 2016-18 के प्रथम वर्ष के एक विषय में व द्वितीय वर्ष के एक या एक से अधिक विषय में परिणाम रि-अपीयर, अनुतीर्ण रहा था, प्रवेश वर्ष 2017-19 के प्रथम वर्ष के एक विषय एवं द्वितीय वर्ष के एक या एक से अधिक विषय में एसआईपी (लिखित एवं बाह्य प्रायोगिक परीक्षा) परिणाम रि-अपीयर या अनुतीर्ण रहा है, जिसके कारण परीक्षा परिणाम नॉट-फिट-फॉर डिप्लोमा घोषित हुआ था और ऐसे छात्र-अध्यापक जो किन्हीं कारणों से आवेदन-पत्र आवेदित नहीं कर पाए थे, उन छात्र-अध्यापकों को भी फरवरी-2021 की परीक्षा में प्रविष्ट होने के लिए प्रथम वर्ष मे एक विषय एवं द्वितीय वर्ष में एक या एक से अधिक विषय के लिए एक विशेष अवसर प्रदान किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि इसी प्रकार प्रवेश वर्ष 2018-20 प्रथम वर्ष में एक विषय में अनुतीर्ण होने के कारण उनका द्वितीय वर्ष का परिणाम रोका गया था, ऐसे छात्र-अध्यापक को भी एक विषय में आवेदन करने के लिए एक विशेष अवसर प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि जिन छात्र-अध्यापकों द्वारा पूर्व में मर्सी चांस या विशेष अवसर का लाभ लिया जा चुका है, ऐसे छात्र-अध्यापक भी इस अवसर के लिए पात्र होंगे। उन्होंने आगे बताया कि ऐसे सभी छात्र-अध्यापक 19 फरवरी से आयोजित होने वाली परीक्षा के लिए ऑफलाइन आवेदन व निर्धारित परीक्षा शु:ल्क 5000 रुपये सहित अपने मूल शिक्षण संस्थान से प्रमाणित करवाकर किसी भी कार्य दिवस में 17 फरवरी शाम पांच बजे तक बोर्ड कार्यालय में दस्ती जमा करवा सकते हैं।

Next Story