Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

साइबर ठगों ने जींद के ASP का ही बना दिया फर्जी फेसबुक अकाउंट

साइबर ठगों के खिलाफ अब एसपी ने विशेष टीम बनाई है जो इन ठगों का पर्दाफाश करने का काम करेगी। इस टीम की निगरानी केवल इसी पर रहेगी कि कोई कौन साइबर क्राइम को कहां से अंजाम दे रहा है।

Cyber Crime: 10 रुपये के रिचार्ज के चक्कर में खाते से ऐसे उड़ाए साढ़े 7 लाख
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हरिभूमि न्यूज. जींद

साइबर ठग आमजन के साथ ही अब हाईप्रोफाइल लोगों के फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर लोगों को ठगने लगे हैं। जींद के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नितिश अग्रवाल की भी फर्जी फेसबुक आइडी बना दी गई। ऐसे में साइबर ठगों के खिलाफ अब एसपी ने विशेष टीम बनाई है जो इन ठगों का पर्दाफाश करने का काम करेगी। इस टीम की निगरानी केवल इसी पर रहेगी कि कोई कौन साइबर क्राइम को कहां से अंजाम दे रहा है। एसपी वसीम अकरम ने कहा कि लोगों को इस तरह के ठगों से सावधान रहने की जरूरत है। इस तरह के मामला संज्ञान में आने के बाद स्थानीय थाने मामले दर्ज कराएं। साइबर क्राइम को लेकर टीम गठित कर दी गई है। विशेष रणनीति के तहत इन साइबर क्राइम करने वालों पर दबिश दी जाएगी।

ऐसे देते हैं वारदात को अंजाम

यदि आप सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं तो साइबर अपराधियों से सावधान रहने की जरूरत है। ये ठग आपकी फोटो डाउनलोड कर उसी नाम से दूसरा अकाउंट बना कर रिश्तेदारों व परिचितों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं। फिर किसी न किसी बहाने से उनसे पैसे मांगते हैं। ये साइबर ठग आपके फेसबुक अकाउंट से जानकारी चुरा लेते हैं और उसका प्रयोग नकली फेसबुक आईडी बना कर करते हैं। ऐसे ही कई मामले जींद में भी सामने आ चुके हैं। इनमे लैक्चरर, अध्यापक, सरकारी कर्मी व अधिकारी तक शामिल हैं। इन साइबर ठगों द्वारा मजबूरी दिखा कर रुपये मांगे जाते हैं। जब कोई इन साइबर ठगों की बातों में आ जाता है और रुपये दे देता है तो इनका मकसद हल होते ही अकाउंट को डिलीट कर देते हैं।

एएसपी की भी बनाया फर्जी फेसबुक अकाउंट

साइबर ठगों द्वारा जींद के एएसपी नितिश अग्रवाल का भी फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाया गया है। उन्होंने इस बारे में पुलिस को भी शिकायत दी है। जिसमें बताया गया है कि गत 25 मई को उनके नाम से फेसबुक पर फर्जी खाता अकाउंट बनाया गया। जिसका यूआरएल नंबर भी दिया गया है। साइबर ठग द्वारा उनके फेसबुक अकाउंट से फोटो और अन्य विवरण लिया है और इस्तेमाल किया है। बाकायदा उनके दोस्तों को फ्रेंड रिक्वेस्ट तक भेजी गई है। यह तो उनकी सतर्कता थी कि उन्हें इस बारे में पता चल गया और अपने मित्रों व सगे संबंधियों को इस बारे में आगाह किया कि अगर कोई पैसे मांगता है तो कहीं कोई पैसे न दे दे। सफीदों थाना पुलिस ने धोखाधड़ी, आईटी एक्ट के तहत अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Next Story