Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Cyber Fraud : एसी ठीक कराने के लिए कस्टमर केयर पर कॉल करना पड़ा महंगा, खाते से उड़े 50 हजार रुपये

पीड़ित इसकी शिकायत करने थाने में गया तो पुलिस ने उसी की गलती ठहरा दी। फिर पुलिस के बड़े अधिकारियों को शिकायत दी तो अब तीन महीने बाद इस संबंध में केस दर्ज हो पाया है।

Cyber Fraud : एसी ठीक कराने के लिए कस्टमर केयर पर कॉल करना पड़ा महंगा, खाते से उड़े 50 हजार रुपये
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

एयर कंडीशनर (एसी) की रिपेयरिंग कराने के लिए कस्टमर केयर पर कॉल करना शहर के निवासी एक व्यक्ति को काफी महंगा पड़ गया। कॉल करने के बदले एसी तो ठीक हुआ नहीं, लेकिन शातिर ने उसके खाते से लगभग 50 हजार रुपये की राशि उड़ा दी। इसकी शिकायत करने थाने में गया तो पुलिस ने उसी की गलती ठहरा दी। फिर पुलिस के बड़े अधिकारियों को शिकायत दी तो अब तीन महीने बाद इस संबंध में केस दर्ज हो पाया है।

वारदात किला मोहल्ला के निवासी जयदीप के साथ हुई है। जयदीप के अनुसार, उसका एसी खराब हो गया था। इसे ठीक कराने के लिए उसने कस्टमर केयर नंबर 9883848035 पर 9 जुलाई को कॉल की। एक युवक ने कॉल रिसीव की। खुद को कंपनी का कर्मचारी बताया और बाद में अपने सीनियर को कॉल ट्रांसफर कर दी। उस कथित सीनियर को एसी की खराबी के बारे में जानकारी दी तो उसने कहा कि एसी में नया कंप्रेसर लगेगा। कंप्रेसर घर आ जाएगा। इसके लिए तीन रुपये सर्विस चार्ज लगेगा। यह सर्विस चार्ज अभी ऑनलाइन जमा कराना होगा। बकौल जयदीप, रुपये जमा कराने के लिए उसने नेट बैंकिंग की एप्लीकेशन ओपन की। जैसे ही पासवर्ड भरने लगा तो खाते से 49365 रुपये ट्रांसफर होकर किसी अन्य खाते में चले गए। खाते से रुपये निकलते ही वह हैरान हो गया। उसने फोन पर अधिकारी बनकर बात कर रहे शख्स से इस संबंध में बात की। फिर रिस्पांस मिलना बंद हो गया।

अपने स्तर पर तफ्तीश करने पर पता चला कि जिस बंधन बैंक के खाते में रुपये गए हैं वह दिल्ली के यमुना बाजार के रहने वाले गिरीश का है। इसकी शिकायत करने के लिए वह सिटी थाने में गया। वहां एएसआई कृष्ण मिले। उन्हें अपनी शिकायत बताई। पुलिस कर्मी ने शिकायत पर कार्रवाई करने के बजाय उसकी ही गलती ठहरा दी। कहा कि इस तरह की धोखाधड़ी की कोई शिकायत दर्ज नही होती। पुलिस इसमें कुछ नहीं कर सकती। स्थानीय पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की तो उसने एडीजीपी अफिस में शिकायत दी। अब लगभग तीन महीने बाद उस शिकायत पर एफआईआर दर्ज करने की कार्रवाई हुई है। पुलिस जल्द से जल्द आरोपित को गिरफ्तार करे और रुपयों की रिकवरी करने में मदद करे। उधर, सिटी थाना पुलिस का कहना है कि शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है। जिस नंबर से कॉल आई, उसका रिकार्ड लिया जाएगा। जिस खाते में रुपये गए, उसको भी तफ्तीश में शामिल किया जाएगा। मामले में जांच चल रही है। जल्द से जल्द इसे सुलझाने का प्रयास रहेगा।

Next Story