Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सोनीपत : कोरोना संक्रमित महिला ने सरकारी अस्पताल के गेट पर बच्चे को दिया जन्म, दोनों की मौत

बच्चे की जन्म के बाद ही मौत हो गई तो परिजन उसके शव को लेकर गांव में चले गए और दफना दिया। बाद में जच्चा कोरोना संक्रमित मिली और उसकी भी मौत हो गई।

हिमाचल में कोरोना से दो और मौतें, अब तक वायरस से 226 की मौत
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत

नागरिक अस्पताल के मुख्य गेट में गर्भवति महिला ने बच्चे को जन्म दिया। जिसकी थोड़ी देर बाद ही मौत हो गई। परिजन बच्चे के शव को लेकर गांव में चले गए। बृृहस्पतिवार सुबह बच्चे के शव का संस्कार गांव में किया गया। वहीं जन्म देने वाली महिला की कोविड-19 संक्रमित मिली। जिसकी मौत हो गई। मामले की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर शवगृह में रखवाया। देर शाम को कोविड-19 की गाईड लाइनों की पालना करते हुए गांव में अंतिम संस्कार किया गया।

गांव पबसरा निवासी संतराम ने बताया कि वह मेहनत-मजदूरी का काम करता हैं। उसकी पत्नी सुमन (29) गर्भवती थी। करीब एक महीने से उसका उपचार नागरिक अस्पताल में चल रहा था। एक सप्ताह पहले दर्द शुरू होने पर उसे नागरिक अस्पताल में लाया गया। प्रसूति विभाग से सुमन को महिला मेडिकल कॉलेज अस्पताल खानपुर में रेफर कर दिया। जहां से वापिस नागरिक अस्पताल में भेज दिया। महिला को एक सप्ताह बाद बच्चे को जन्म देने की बात कही।

संतराम ने बताया कि गत 19 अप्रैल को उसकी पत्नी का कोविड-19 सैंपल लिया गया। जिसकी रिपोर्ट उन्हें 21 अप्रैल को मिली। उसकी पत्नी की हालत खराब होती देख उसे लेकर निजी कार में अस्पताल पहुंंचे। जहां मुख्य गेट पर बच्चे को जन्म दिया। बच्चे की मौत हो चुकी थी। उसके बाद उसकी पत्नी को भर्ती करवाया। जहां अस्पताल में उसकी मौत हो गई। कोविड-19 संक्रमित होने के चलते स्वास्थ्य विभाग द्वारा सेनिटाइज करवाकर शवगृह में रखवाया गया। बृहस्पतिवार देर शाम को कोविड-19 गाईड लाइनों की पालना करते हुए स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की देखरेख में अंतिम संस्कार किया गया।

महिला की कोविड रिपोर्ट पॉजीटिव

महिला की कोविड-19 सैंपल रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। जिसकी मौत हो चुकी हैं। शव को स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की देखरेख में परिजनों के साथ मिलकर अंतिम संस्कार किया गया हैं। मामले में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से कागजी कार्यवाही अमल में लाई जा रही है। -नरेंद्र सिंह, प्रभारी सिक्का कालोनी।

Next Story