Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Corona Effect : हरियाणा विधानसभा में एक महीने तक नहीं होगी कमेटियों की बैठक

वर्चुअल संवाद में स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि हलके में रहकर जनसेवा में जुटें विधायक, जनप्रतिनिधियों से अपील- बड़े निजी कार्यक्रमों में शामिल होने से करें परहेज।

Corona Effect : हरियाणा विधानसभा में एक महीने तक नहीं होगी कमेटियों की बैठक
X

वर्चुअल संवाद के दौरान विधायकों से बात करते विस अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता।

हरियाणा विधान सभा ने प्रदेश के लोगों को इस महामारी से बचाने के लिए वीरवार को बड़े फैसले लिए। आगामी एक माह के लिए विस कमेटियों की सभी बैठकें स्थगित कर गई हैं तो विधानसभा सचिवालय में स्थापित नियंत्रण कक्ष को प्रभावी बनाने के लिए अफसरों की कमेटी गठित की गई। इतना ही नहीं प्रदेश में कोरोना के हालातों का जायजा लेने के लिए विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ( Gyan Chan Gupta) ने सभी दलों के विधायकों के साथ वर्चुअल संवाद किया।

इस संवाद में अनेक चौंकाने वाले तथ्य सामने आए, जिसके मद्देनजर विस अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को पत्र लिखकर विधायकों के सुझावों और मांगों से अवगत करवाया। वहीं, गुप्ता ने कहा कि इस वक्त प्रदेश के लोगों को जनप्रतिनियों से सहयोग की दरकार है। इसके चलते अगले एक माह तक विधान सभा कमेटियों की सभी बैठकें स्थगित कर दी गई हैं। कोरोना पीड़िता लोगों की मदद के लिए विधान सभा सचिवालय में स्थापित नियंत्रण कक्ष भी चालू हो गया है। इस सेवा को त्वरित करने के लिए विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने विशेष कमेटी का भी गठन किया। विधान सभा के अतिरिक्त सचिव सुभाष शर्मा के नेतृत्व में गठित इस कमेटी में विधान सभा के अधिकारी राजेंद्र पांचाल, यादवेंद्र यादव और संदीप कुमार शामिल हैं। कमेटी 24 घंटे कार्य करेगी।

उधर, मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को लिखे पत्र में ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि लोगों की सहायता और अफवाहों को रोकने के लिए जिला स्तर पर समन्वय कमेटियां बनाई जानी चाहिए। इन कमेटियों में प्रशासनिक और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों को भी शामिल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्हें जानकारी मिली है कि हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग का इन्फ्रास्टचर काफी बड़ा है, इसके बावजूद इस आपदा की स्थिति में निजी अस्पतालों की सेवाएं भी सरकार को लेनी चाहिए। ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि अफवाहों को रोकना बड़ी चुनौती बन चुका है। अनेक असामाजिक तत्व तथा कुछ लोग निहित स्वार्थों के चलते सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाहें फैलाकर हालात बिगाड़ने की कोशिश कर सकते हैं। सरकार को ऐसे लोगों से सख्ती से निपटना चाहिए। गुप्ता ने प्रदेश सरकार को विधायकों के उन सुझावों से भी अवगत करवाया जिनमें स्थानीय स्तर पर सामाजिक संस्थाओं, मेडिकल साइंस के विद्यार्थियों से मदद लेने की बात कही गई है।

सरकार को पत्र लिखने के साथ ही विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने प्रदेश के विधायकों से भी अपील की कि वे संकट की घड़ी में अपने हलके की जनता के साथ खड़े हों। उन्होंने आह्वान किया कि निजी स्तर पर होने वाले सामूहिक कार्यक्रम में शिरकत करने से परहेज करें। लोगों से फोन या इलेक्ट्रोनिक माध्यमों के जरिए संपर्क में रहें। उन्होंने कहा कि यह महामारी विकट रूप धारण करती जा रही है, ऐसे में हम सबके सामूहिक प्रयास ही इससे निपटने में कारगर साबित होंगे। इसके साथ ही उन्होंने किसान आंदोलन से जुड़े लोगों से भी अपील की संकट की गंभीरता को समझते हुए वे अपना और अपने परिवार के बचाव को वरीयता दें। वर्चुअल संवाद के दौरान विधान सभा उपाध्यक्ष रणबीर गंगवा ने कहा कि विधायक जनता के प्रतिनिधि हैं। उनकी कही बातों को लोग गंभीरता से लेते हैं। इसलिए वे सक्रिय होकर भूमिका निभाएं।


Next Story