Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

और गुलजार होंगे स्कूल : तीसरी से पांचवीं तक की कक्षाएं 24 फरवरी से शुरू

इसके तहत विद्यालय में आने से पूर्व विद्यार्थी द्वारा अपने माता-पिता/अभिभावकों की लिखित अनुमति विद्यालय मुखिया/कक्षा अध्यापक को देनी अनिवार्य होगी। ऐसे विद्यार्थी जो ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई जारी रखना चाहते है उनके लिए ऑनलाइन सुविधाएं जारी रहेगी।

Schools Reopen: पुणे में 11 महीने बाद कक्षा 5 से 8 तक के लिए फिर से खुले स्कूल, छात्रों में दिखाई दिया उत्साह
X

हरिभूमि न्यूज: नारनौल

सरकार द्वारा निर्णय लिया गया है कि अब कक्षा तीसरी से पांचवीं के विद्यार्थियों के लिए 24 फरवरी से प्रतिदिन 3 घंटे सुबह 10 बजे से दोपहर 1:30 बजे के मध्य सरकारी व प्राइवेट विद्यालयों को पुन: आरंभ कर दिया जाए। इसके तहत विद्यालय में आने से पूर्व विद्यार्थी द्वारा अपने माता-पिता/अभिभावकों की लिखित अनुमति विद्यालय मुखिया/कक्षा अध्यापक को देनी अनिवार्य होगी। ऐसे विद्यार्थी जो ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई जारी रखना चाहते है उनके लिए ऑनलाइन सुविधाएं जारी रहेगी। ऐसे विद्यार्थियों को विद्यालय में उपस्थित होने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा तथा न ही विद्यालय से उनका नाम काटा जाएगा।

मौलिक शिक्षा हरियाणा के सहायक निदेशक (शैक्षणिक) की ओर से सोमवार जारी आदेश में कहा गया है कि विद्यालय में प्रवेश तथा पठन-पाठन के दौरान हरियाणा आपदा प्रबंधन विभाग के पत्र की अनुमापला में जारी स्वास्थ्य संबंधी अन्य प्रोटोकॉल जैसे विद्यार्थियों व अध्यापकों के तापमान की दैनिक जांच पूर्व की भांति जारी रहेगी। सामान्य से अधिक तानमान पाए जाने पर स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। ऐसे सभी संबंधित का डाटा संबंधित विद्यालय दैनिक आधार पर विभाग द्वारा उपलब्ध करवाया जाएगा। पूरे विद्यालय परिसर को कक्षाओं के स्तर के अनुसार अलग-अलग विंग (सीनियर सेकेंडरी, सेकेंडरी, मिडल व प्राथमिक) में बांटा गया है। एसओपी के सभी नियमों का पालन करने के उपरांत भी यदि कोई विद्यार्थी कोविड पॉजिटिव पाया जाता है तो विद्यालय मुखिया द्वारा विद्यालय प्रबंधन समिति के सहयोग से उच्च अधिकारी के संज्ञान में लाकर उसकी कक्षा के पूरे विंग को दस दिन बंद करने का निर्णय लिया जाएगा। विद्यालय परिसर को सैनेटाइज कर दिया जाएगा। यदि एक से अधिक विंग के विद्यार्थी पॉजिटिव आते है तो विद्यालय को 10 दिन के लिए बंद करने की यह प्रक्रिया पूरे विद्यालय के लिए अपनाई जाएगी।

अभी सूखा राशन वितरित किया जाएगा

राज्य के सरकारी विद्यालयों में चल रही मध्याहन भोजन योजना के संदर्भ में स्पष्ट किया गया है कि कोविड-19 त्रासदी के कारण के स्थान पर अपनाया गया सूखा राशन वितरण करने का कार्यक्रम आगामी आदेश तक पूर्व की भांति जारी रहेगा।

Next Story