Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा के सभी स्कूलों में 15 जून तक बच्चों की छुट्टियां बढ़ीं

शिक्षक और स्कूल स्टाफ के लिए रोस्टर के तहत स्कूल खुलेंगे। 1 जून से 50 फीसदी शिक्षक और स्कूल स्टाफ रोस्टर से स्कूल में रहेंगे मौजूद।

Education Minister Kanwarpal
X

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल

हरिभूमि न्यूज : यमुनानगर

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि कोरोना संकट की स्थिति के देखते हुए प्रदेश में पंद्रह दिन के लिए ग्रीष्मकालीन छुट्टियां बढ़ा दी गई हैं। अब 15 जून तक प्रदेश के स्कूलों में छुट्टियां रहेंगी। उन्होंने शुक्रवार को जगाधरी में अपने निवास स्थान पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए उक्त जानकारी दी।

शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि प्रदेश में 31 मई तक ग्रीष्मकालीन छुट्टियां चल रही हैं। मगर प्रदेश में कोरोना की स्थिति को देखते हुए हरियाणा सरकार ने स्कूलों में 15 दिन और छुट्टियां बढ़ाए जाने का निर्णय लिया है। अब प्रदेश के स्कूलों में 15 जून तक छुट्टियां रहेंगी। उन्होंने कहा कि ग्रीष्मकालीन छुट्टियां समाप्त होने के बाद प्रदेश सरकार कोरोना की स्थिति का आंकलन करने के बाद ही स्कूलों के खोलने या नहीं खोलने का निर्णय परिस्थितियों के अनुसार लेगी।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि यदि केंद्र सरकार कहेगी तो प्रदेश सरकार 15-20 जून के बाद स्कूलों में परीक्षाएं आयोजित करवा सकती है। मगर उनका सुझाव यह है कि जिस स्कूल में बच्चा पढ़ता है, उसी स्कूल में सेंटर बनाकर उसकी परीक्षा करवाई जा सके। इससे परीक्षा केंद्र पर बच्चों की संख्या भी कम रह सकेगी और उन्हें दूरदराज के परीक्षा केंद्र पर भी नहीं जाना पड़ेगा। इस दौरान उनका एक और सुझाव है कि परीक्षा केंद्र पर जो भी स्टॉफ पहुंचेगा, उसका वैक्सीनेशन करवाया होना जरुरी होना चाहिए। उन्होंने परीक्षा समय भी केंद्र सरकार जैसे निर्धारित करेगी, उसके अनुसार परीक्षा लिए जाने की बात कही। उन्होंने ऑनलाइन एजुकेशन के लिए आठवीं से बारहवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को मोबाइल टैबलेट दिए जाने का दावा जताया।

स्कूलों का समय प्रात: 9:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक रहेगा

अब विद्यार्थियों की 15 जून तक छुट्टियां रहेंगी जबकि पहली जून से अध्यापकों और अन्य गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों को 50 प्रतिशत के अनुपात में स्कूल आना होगा। अध्यापकों और अन्य गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों की 50 प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए स्कूल के मुखिया द्वारा रोस्टर बनाया जाएगा। इस दौरान स्कूलों का समय प्रात: 9:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक रहेगा। सभी स्कूलों के मुखिया और प्रभारी अपने क्षेत्राधिकार के तहत आने वाले स्कूलों में अध्यापकों और अन्य गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों की रोस्टर के अनुसार हाजिरी सुनिश्चित करेंगे। स्कूल आने वाले स्टाफ को कोविड-19 के संबंध में 30 अप्रैल को जारी हिदायतों का पालन करना होगा

स्कूलों के जरूरी शैक्षणिक और प्रशासनिक कार्य निपटाए जाएंगे

अध्यापकों द्वारा स्कूलों के जरूरी शैक्षणिक और प्रशासनिक कार्य निपटाए जाएंगे। इनमें रिपोर्ट कार्ड का अध्ययन एवं वितरण, परीक्षा परिणाम रजिस्टर संबंधित कार्यों को अपडेट करना, सेक्शन या हाउस का गठन करना, दाखिलों से संबंधित औपचारिकताएं पूरी करना तथा विभाग के एमआईएस पर अपडेट करना, ड्रॉपआउट की होने की आशंका वाले विद्यार्थियों के अभिभावकों से संपर्क करना और पारस्परिक आदान-प्रदान से पाठ्य-पुस्तकों का वितरण सुनिश्चित करना आदि कार्य शामिल हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले 22 अप्रैल को राज्य के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में 31 मई तक ग्रीष्म अवकाश की घोषणा की गई थी।

Next Story