Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा में हाईवे पर ओवरस्पीड वाहन चलाने वालों के ऑटोमेटिक होंगे चालान, चंडीगढ़ की तर्ज पर लगाईं जाएंगी मशीनें

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज (Home Minister Anil Vij) ने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक करके हर 50 किलोमीटर पर एलइडी लगाने का निर्देश जारी किया है। इतना ही नहीं विज ने दुर्घटना वाले ब्लैक स्पॉट से पहले चालान के लिए मशीनें लगाने का निर्देश जारी कर दिया है।

Delhi Samaypur Badli: हाईवे पर लूटपाट करने वाले कांस्टेबल गिरोह का पर्दाफाश, Google पर बदमाशों की लिस्ट में था नंबर वन
X
कांस्टेबल गिरोह का पर्दाफाश

योगेंद्र शर्मा : चंडीगढ़

हरियाणा में हाईवे (Highway) से गुजरने वाले वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करना महंगा पड़ेगा, राजधानी चंडीगढ़ से लेकर दिल्ली तक और बाकी हाईवे पर हर 50 किलोमीटर के बाद एलईडी लगाई जाएगी जिस पर वाहन चालक (Vehicle Driver) को अपने खुद के वाहन की स्पीड नजर आएगी। चेतावनी के बावजूद ओवरस्पीडिंग (Overspeeding) करने वालों के ऑटोमेटिक चालान होंगे।

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक करके हर 50 किलोमीटर पर एलईडी लगाने का निर्देश जारी किया है। इतना ही नहीं विज ने दुर्घटना वाले ब्लैक स्पॉट से पहले चालान के लिए मशीनें लगाने का निर्देश जारी कर दिया है। वाहन चालक ओवर स्पीडिंग करेंगे तो ऑटोमेटिक चालान चंडीगढ़ और दिल्ली की तर्ज पर होगा। यह चालान बाद में ओवरस्पीडिंग करने वाले के घर पहुंचेगा। गृहमंत्री अनिल विज के निर्देशों के बाद पुलिस और ट्रैफिक कर्मियों ने इस पर कामकाज की शुरुआत कर दी है।

ब्लैक स्पॉट कम करने की कवायद

दुर्घटना वाले पॉइंट कम करने को लेकर भी प्रदेश के गृह मंत्री ने पुलिस और ट्रैफिक अधिकारियों से बातचीत की। गृह मंत्री अनिल विज ने अधिकारियों के साथ मीटिंग लेकर दुर्घटना वाले पॉइंट ब्लैक स्पॉट पर गंभीरता से काम करने के लिए कहा था कि दुर्घटना में और कमी आ सके।

चंडीगढ़ में वीवीआइपी के चालान

चंडीगढ़ में ट्रैफिक पुलिस ने कई नए प्रयोग किए हैं। पुलिस ने कई स्थानों पर जहां ऑटोमेटिक चलाने के लिए मशीनें लगाई हुई है। कुल मिलाकर चंडीगढ़ में कई सियासी दिग्गजों सरकारी अफसरों के साथ-साथ वीवीआईपी लोगों की गाड़ियों के भी चालान हो रहे हैं। मानवीय हस्तक्षेप नहीं होने के कारण इसमें कोई खेल भी नहीं हो सकता इसलिए सभी को चालान भरने पड़ रहे हैं। दूसरा बार-बार वायलेशन करने पर चालान की राशि डबल हो जाती है।

वहीं दूसरी ओर अब चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस की ड्यूटी भी कंप्यूटर सिस्टम से लगने लगी है। एक ही स्थान पर लंबे समय से जमे ट्रैफिक पुलिस कर्मियों को दूसरे स्थानों पर साथ ही जिन ट्रैफिक अधिकारियों के साथ पूर्व में ड्यूटी दे चुके हैं, उनके साथ काम करने का मौका नहीं मिलेगा। पुलिस के पास चालान के साथ-साथ फोटो और वीडियो समय और तारीख के साथ चालान में आती है इसीलिए लोग किसी भी तरह से उसको चुनौती नहीं दे सकते।

Next Story
Top