Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

FCI के गाेदामों में सीबीआई का छापा

टीम ने आते ही सैंपल लेने भी शुरू कर दिए। सीबीआई की इस तत्परता की कार्रवाई से कुछ घोटाले की भी बू आ रही है।

FCI के गाेदामों में सीबीआई का छापा
X

नरवाना में एफसीआई गोदाम का वह गोदाम जहां पर सीबीआई ने छापेमारी की है, गोदाम के बाहर खड़े मजदूर व अन्य लोग।

हरियाणा : सीबीआई की तरफ से हरियाणा के सिरसा और जींद समेत कई इलाकों में छापेमारी की गई है। एजेंसी ने हरियाणा में 10 गोदामों से चावल और गेहूं के सैंपल लिए हैं। सिरसा में शुक्रवार को सुबह होते ही एफसीआई के गोदामों में सीबीआई की टीमों का काफिला पहुंच गया। सीबीआई की पांच से ज्यादा टीमों ने मंगाला, पन्नीवाला मोटा और ऐलनाबाद में गोदामों पर छापे मारे हैं। एक टीम मंगाला में बने हैफेड के गोदाम में पहुंची और रिकॉर्ड तलब कर जांच शुरू कर दी। सीबीआई की इस तत्परता की कार्रवाई से कुछ घोटाले की भी बू आ रही है।

वहीं सीबीआई की पांच सदस्यीय टीम ने बीती रात्रि लगभग 11 बजे नरवाना की सब्जी मंडी के निकट एफसीआई गोदाम पर दस्तक दी। टीम का नेतृत्व सीबीआई के डीएसपी कर रहे हैं। टीम प्राइवेट गाडिय़ों में सवार होकर गोदाम पर पहुंची थी। साथ में सुरक्षा के लिए सीआरपी के जवान भी थे। इसके अलावा सदर थाना नरवाना पुलिस ने टीम को सुरक्षा मुहैया करवाई। देर रात को पहुंची टीम ने गोदाम के रिकार्ड को कब्जे में ले लिया और एफसीआई के कर्मचारियों तथा अधिकारियों को मौके पर बुला लिया। मध्यरात्रि बाद तक रिकार्ड को खंगाला गया तो फिर आराम करने के बाद शुक्रवार अल सुबह टीम फिर से गोदाम पहुंची और रिकार्ड तथा भंडारण क्षमता से संबंधित रिकार्ड को खंगालना शुरु कर दिया। सीबीआई की छापेमारी की भनक लगने पर काफी संख्या में लोग एफसीआई गोदाम गेट के बाहर एकत्रित हो गए।

हालांकि गेट को बंद किया गया था और वहां पर पुलिस कर्मियों को भी तैनात किया गया था। शुक्रवार दोपहर बाद तक टीम गोदाम में रिकार्ड को खंगालती रही। टीम में शामिल सीबीआई अधिकारियों ने जांच से संबंधित तथ्यों की जानकारी देने तथा बातचीत करने से साफ मना कर दिया। भारतीय खादय निगम के नरवाना स्थित गोदाम की क्षमता लगभग एक लाख टन है। जिसमे 80 हजार टन भंडारण के लिए कवर्ड एरिया है जबकि 20 हजार टन खुले में रखने की क्षमता है। बताया जाता है कि भंडारण में गोलमाल की शिकायत मिलने पर छापेमारी की गई है। जिसके तहत भंडारण किए गए अनाज की गुणवत्ता तथा मात्रा को जांचना है।




Next Story