Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

उत्तर प्रदेश से भरकर लाया गया धान का ट्रक पकड़ा, किसान बोले- मेरे खेत की है जीरी, मेरी मर्जी जहां चाहे बेचूं

एसडीएम डा. आनंद कुमार शर्मा ने ट्रक लाने वाले वार्ड सात सफीदों निवासी राकेश व राजेश से पूछताछ की तथा कागजातों को चेक किया। एसडीएम ने मार्केट कमेटी सचिव जगजीत कादियान को ट्रक को कब्जे में लेकर जांच के आदेश दिए हैं। जिसके बाद सचिव व पुलिस ने ट्रक को अपने कब्जे में ले लिया।

उत्तर प्रदेश से भरकर लाया गया धान का ट्रक पकड़ा, किसान बोले- मेरे खेत की है जीरी, मेरी मर्जी जहां चाहे बेचूं
X

प्रशासन द्वारा पकड़ा गया ट्रक व ट्राली, मौके पर पहुंचे एसडीएम डा. आनंद कुमार शर्मा व अन्य अधिकारी

हरिभूमि न्यूज. सफीदों

रामपुरा रोड पर उत्तर प्रदेश से भरकर लाया गया धान का ट्रक प्रशासन द्वारा पकड़ा गया है। अंदेशा यह जताया जा रहा है कि इस धान को अनाज मंडी मंे बेचा जाना था क्योंकि ट्रक में से धान को छोटी-छोटी ट्रालियों में भरकर ले जाया जा रहा था। वहीं इस मामले में धान लाने वाले किसान ने आरोपों को नकारा है। मिली जानकारी के अनुसार नगर के रामपुरा रोड पर सुबह धान से भरा एक ट्रक खड़ा हुआ था और उस ट्रक में से धान को ट्रॉलियों में खाली किया जा रहा था। किसी ने मामले की सूचना सफीदों प्रशासन को दी। सूचना पाकर एसडीएम आईएएस डा. आनंद कुमार शर्मा मार्केट कमेटी के सचिव जगजीत कादियान व पुलिस को साथ लेकर मौके पर पहुंचे।

एसडीएम डा. आनंद कुमार शर्मा ने ट्रक लाने वाले वार्ड सात सफीदों निवासी राकेश व राजेश से पूछताछ की तथा कागजातों को चेक किया। एसडीएम ने मार्केट कमेटी सचिव जगजीत कादियान को ट्रक को कब्जे में लेकर जांच के आदेश दिए हैं। जिसके बाद सचिव व पुलिस ने ट्रक को अपने कब्जे में ले लिया। इस मामले में मार्केट कमेटी सचिव जगजीत कादियान ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि रामपुरा रोड पर खड़े एक ट्रक से धान ट्रालियों में भरकर ले जाई जा रही है। सूचना मिलने पर उन्होंने इसकी जानकारी एसडीएम डा. आनंद कुमार शर्मा को दी। इस ट्रक में करीब 200 क्विंटल धान भरी हुई है। मामले की जांच जारी है और जांच के उपरांत ही कोई कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। धान लेकर आने वाले किसान वार्ड नंबर सात सफीदों निवासी राजेश व राकेश का कहना है कि वे इस धान को जलालाबाद जिला शाहजहांपुर उत्तर प्रदेश से लेकर यहां आए हैं। वहां पर उनकी साढ़े 23 एकड़ जमीन है और जमीन में उन्होंने धान लगा रखी थी। बारिश इत्यादि के कारण उनकी धान खराब हो रही थी। इसलिए वे इसे लेकर अपने घर सफीदों लाए हैं। वहां पर इस धान का भाव सिर्फ 800 रुपये प्रति क्विंटल है और इस कीमत पर वहां अपनी धान नहीं बेचना चाहते। उन्होंने कहा कि हमारे खेत की है जीरी, हमारी मर्जी जहां चाहें बेंचे। वहीं मार्केट कमेटी सचिव व पुलिस मामले की जांच कर रहे हैं।


Next Story