Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सरकारी स्कूलों में अब बनेंगे करियर काउंसिलिंग कॉर्नर, शिक्षा के साथ मिलेगी रोजगार की सुविधा

इसको लेकर समग्र शिक्षा विभाग के जिला परियोजना समन्वयक सुधीर कालड़ा की अगुवाई में अहम मीटिंग हुई।

सरकारी स्कूलों में अब बनेंगे करियर काउंसिलिंग कॉर्नर, शिक्षा के साथ मिलेगी रोजगार की सुविधा
X

हरिभूमि न्यूज. अंबाला

जिले के सरकारी स्कूलों में भी अब कैरियर काउंसलिंग कॉर्नर बनाए जाएंगे। साथ ही व्यवसायिक कोर्स करने वाले छात्रों के लिए प्लेसमेंट ड्राइव भी आयोजित की जाएंगी। इसको लेकर समग्र शिक्षा विभाग के जिला परियोजना समन्वयक सुधीर कालड़ा की अगुवाई में शनिवार को अहम मीटिंग हुई। इसमें एपीसी अनिल जगदेव, सूर्यकांत, पूजा शर्मा, हरजिंदर सिंह, लेखाधिकारी मदन लाल, उपमंडल अभियंता राहुल शर्मा, प्रोग्रामर सुभाष वर्मा, संजय और डाटा प्रचालक सपन गुप्ता ने भी हिस्सा लिया।

इस दौरान बच्चों के लिए सभी स्कूलों में करियर काउंसिलिंग कार्नर, व्यवसायिक शिक्षा और डिजिटल स्मार्ट बोर्ड की सुविधा देने के साथ साथ दिव्यांग बच्चों के कल्याण हेतु विशेष योजना बनाने के लिए प्रस्ताव भेजने पर भी सहमति बनी। दिव्यांग विद्यार्थियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए गृह आधारित गतिविधियों को करवाने हेतु विशेष अध्यापकों की आवश्यकता पर जोर दिया गया। दिव्यांग विद्यार्थियों हेतु कलस्टर लेवल पर ही आईईडी रिसोर्स सेंटर स्थापित कर प्रत्येक सीआरसी रिसोर्स सेंटर पर तीन तीन स्पेशल टीचर्स को नियुक्त करने का प्रस्ताव भेजने पर सहमति बनी।

जिला स्तर पर होने वाले शिक्षा विभाग के कार्यक्रमों जैसे प्रदर्शनी, मेले व अन्य गतिविधियों हेतु राजकीय माध्यमिक विद्यालय, सेक्टर 9,अंबाला शहर में एक सभागार के निर्माण हेतु भी प्रस्ताव भेजने पर भी बात हुई है। इसके अलावा आधुनिक शक्षिा को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक प्राइमरी, माध्यमिक, उच्च एवम वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में डिजिटल स्मार्ट बोर्ड उपलब्ध करवाने का प्रस्ताव भी पारित हुआ।

लाइब्रेरी में उपलब्ध होंगी सुविधाएं

बच्चों की करियर काउंसलिंग के लिए प्रत्येक विद्यालय में विद्यालय के स्तर अनुसार करियर काउंसलिंग कॉर्नर बनवाने हेतु तथा लाइब्रेरी बुक के लिए आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने की बात कही गई। प्रस्ताव बनाया गया कि प्राइमरी स्कूलों की लाइब्रेरी में नवोदय एवं सैनिक स्कूलों की प्रवेश परीक्षा के लिए उपयोगी पुस्तकों की उपलब्धता हो। माध्यमिक स्कूलों में एनएमएमएस जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं तथा नवोदय व सैनिक स्कूलों की प्रवेश परीक्षाओं के लिए उपयोगी पुस्तकों तथा उच्च व वरष्ठि माध्यमिक वद्यिालयों में सुपर-100, एनडीए, इंजीनियरिंग, मेडिकल व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोगी पुस्तकें उपलब्ध करवाने बारे प्रस्ताव बना। एनएसक्युएफ के तहत व्यवसायिक कोर्सेस करने वाले बच्चों के लिए कैंपस प्लेसमेंट ड्राइव आयोजित करने का प्रस्ताव भेजने पर भी सहमति बनी। व्ययवसायिक शिक्षा के प्रति रुझान में उत्थान हेतु आगामी सत्र के प्रारंभ से ही विद्यालय स्तर पर सामुदायिक सहयोग से जागरूकता अभियान चलाने हेतु चर्चा की गई। विशिष्ट कौशलों से संबंधित विशिष्ट दिवसों का वद्यिालय स्तर पर आयोजन करवाने की भी रुपरेखा बनाई गई। नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क' के अंतर्गत आने वाले सभी कौशलों संबंधी खंड तथा जिला स्तर पर प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। इसके अतिरिक्त आगामी वर्ष में स्कूलों में दिए जाने वाले विभिन्न प्रकार के अनुदानों, वद्यिालय स्तर पर होने वाली विभिन्न गतिविधियों में सुधार, वद्यिालयों में आवश्यकता अनुसार सिविल वर्क के तहत आधारभूत सुविधाएं मुहैया करवाने पर भी चर्चा हुई। डीपीसी सुधीर कालड़ा ने कहा कि व्यवसायिक कोर्स करने वाले छात्रों के लिए स्कूलों में ही प्लेसमेंट ड्राइव का आयोजन किया जाएगा ताकि पढ़ाई के दौरान ही उन्हें रोजगार की सुविधा मिल सके।

और पढ़ें
Next Story